उपेंद्र कुशवाहा का नागमणि पर पटलवार, कहा- 'सीएम से कहकर CBI जांच की अनुशंसा करवा दें'

नागमणि ने आरोप लगाया है कि उपेंद्र कुशवाहा ने मोतिहारी सीट नौ करोड़ रुपए में बेच दिया.

उपेंद्र कुशवाहा का नागमणि पर पटलवार, कहा- 'सीएम से कहकर CBI जांच की अनुशंसा करवा दें'
नागमणि ने उपेंद्र कुशवाहा पर लगाया आरोपों की झड़ी. (फाइल फोटो)

पटना : राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष और मोदी सरकार में मंत्री रहे उपेंद्र कुशवाहा ने पार्टी के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष नागमणि के लगाए आरोप का जवाब देते हुए कहा कि वह इस मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से करवाने के लिए राज्य सरकार से अनुशंसा करवा दें. नागमणि ने कुशवाहा पर मोतिहारी लोकसभा क्षेत्र का टिकट नौ करोड़ रुपये में बेचने का आरोप लगाया है.

महागठबंधन के नेता कुशवाहा ने नागमणि के लगाए आरोपों के जवाब में ट्विटर पर लिखा, 'बड़े भाई नागमणि जी ने आज मेरे ऊपर कई आरोप लगाए हैं. मैं उनके प्रति आभार प्रकट करता हूं कि आरोपों की सच्चाई सामने लाने के लिए उन्होंने सीबीआई से जांच कराने की मांग भी की है. मैं भी उनकी इस मांग का पुरजोर समर्थन करता हूं. बड़ी कृपा होगी, मुख्यमंत्री जी से जांच की अनुशंसा करवा दें.'

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'बड़े भाई नागमणि जी से हाथ जोड़कर आग्रह करता हूं. आजकल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी से उनकी बहुत करीबी हो गई है. अपने द्वारा लगाए कथित आरोपों की सीबीआई जांच के लिए बिहार सरकार से अनुशंसा करवा दें. बड़ी कृपा होगी. मुख्यमंत्री जी से नव स्थापित उनकी अंतरंगता की भी पुष्टि का सुनहरा अवसर है उनके लिए.'

तीसरे ट्वीट में कुशवाहा ने नागमणि पर तंज कसते हुए कहा, 'जेडीयू से टिकट लेने के लिए छोटे भाई को इतनी गाली देने से काम नहीं चलेगा. कुछ और जोर लगाइए. कहीं ऐसा न हो कि काराकाट में छोटे भाई का श्राद्ध करने का आपका सपना टिकट के अभाव में अधूरा रह जाए.'

इसके पहले नागमणि ने मंगलवार को पटना में रालोसपा के 11 पदाधिकारियों के पार्टी छोड़ने की घोषणा करते हुए उनका स्वागत किया. उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में आस्था व्यक्त करते हुए कहा कि जल्द ही वे और रालोसपा से इस्तीफा दे चुके कई नेता जेडीयू में शामिल होंगे. 

इस दौरान उन्होंने रालोसपा के पूर्व महासचिव प्रदीप मिश्रा की उपस्थिति में कहा कि कुशवाहा ने पहले मोतिहारी सीट से प्रदीप मिश्रा को टिकट देने का आश्वासन दिया था. इस एवज में उन्होंने मिश्रा से 90 लाख रुपये भी लिए थे, लेकिन बाद में इस सीट का टिकट माधव आनंद को नौ करोड़ रुपये में बेच दिया.

मिश्रा ने कहा कि वे 90 लाख रुपये 45-45 लाख के चेक दो किस्तों में कुशवाहा के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की पार्लियामेंट शाखा (नई दिल्ली) के खाते में चेक के माध्यम से जमा करवाए थे. उन्होंने दावा किया कि बिहार में हुए विधानसभा चुनाव के समय से रालोसपा उनके ही पैसे पर चल रही है. उन्होंने यह भीर कहा कि कुशवाहा और उनके परिवार के अन्य सदस्यों को उन्होंने विदेश घुमाया था. 

 

नागमणि ने दावा किया कि लोकसभा चुनाव में एनडीए सभी 40 सीटों पर जीतेगी. ज्ञात हो कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एक कार्यक्रम में भाग लेने के कारण नागमणि को पार्टी ने 'कारण बताओ' नोटिस जारी किया गया था. इससे नाराज होकर नागमणि ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था.