बीजेपी ने रॉबर्ड वाड्रा के बहाने कांग्रेस से पूछा, एक रोडपति, करोड़पति कैसे बन गया?

 बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि वाड्रा को यूपीए सरकार के सत्ता में रहते हुए 2008-09 में पेट्रोलियम और रक्षा सौदों में लाभ मिला.

बीजेपी ने रॉबर्ड वाड्रा के बहाने कांग्रेस से पूछा, एक रोडपति, करोड़पति कैसे बन गया?
फोटो ANI

नई दिल्लीः बीजेपी ने बुधवार को प्रियंका गांधी वाड्रा के पति राबर्ट वाड्रा को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में प्रवर्तन निदेशालय के समन को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव भ्रष्ट लोगों के ‘‘गैंग (गिरोह)’’ और नरेन्द्र मोदी की पारदर्शी सरकार के बीच है. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि वाड्रा को यूपीए सरकार के सत्ता में रहते हुए 2008-09 में पेट्रोलियम और रक्षा सौदों में लाभ मिला .उन्होंने संवाददाताओं के समक्ष दावा किया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के रिश्तेदार वाड्रा ने इस धन का उपयोग लंदन में करोड़ों रुपए की संपत्ति खरीदने में किया.

बीजेपी प्रवक्ता ने ईमेल का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि वाड्रा की कंपनी को ऐसी अनेक कंपनियों से रिश्वत मिली जिन्हें कालेधन को सफेद करने के लिये बनाया गया था . उन्होंने कहा, ‘‘ 2019 का चुनाव भ्रष्ट लोगों के गैंग और नरेन्द्र मोदी की पारदर्शी सरकार के बीच है. ’’

संबित पात्रा ने कहा, 'कांग्रेस पार्टी को बताना चाहिए कि एक रोड पति अचानक करोड़पति कैसे बन गया? कंपनी खोलने के दौरान रॉबर्ट वाड्रा के पास 1 लाख रुपये भी नहीं थे, लेकिन अब वह करोड़ों की संपत्ति के मालिक हैं. पोस्टर हटाने से पाप कम नहीं होते हैं.'

संबित पात्रा ने कहा कि रॉबर्ड वाड्रा मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी के सामने आ रहे है. दो तरह की दलाली रॉबर्ट वाड्रा ने की है. एक यूपीए 1 के समय पेट्रोलियम डील 2009 में हुई थी उस वक्त बहुत बड़ी रकम रॉबर्ट वाड्रा को मिली था. इसके अलावा एक रक्षा डील है जिसके बदले में भी वाड्रा को बहुत बड़ी दलाली मिली थी.

उल्लेखनीय है कि वाड्रा का मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष उपस्थित होने की संभावना है. यह मामला कथित रूप से गैरकानूनी तरीके से विदेशों में संपत्तियां रखने से संबंधित है. जानकारी के मुताबिक, लंदन में 12 ब्रायनस्टन स्कावयर पर 19 लाख पाउंड की संपत्ति की खरीद में कथित रूप से मनी लांड्रिंग जांच से संबंधित है. 

जमानत के लिए वाड्रा पहुंचे थे कोर्ट
वाड्रा ने इस मामले में अग्रिम जमानत के लिए दिल्ली की अदालत की दरवाजा खटखटाया था. अदालत ने उन्हें निर्देश दिया था कि वह केंद्रीय जांच एजेंसी से जांच में सहयोग करें. दिल्ली की एक अदालत ने वाड्रा को 16 फरवरी तक अंतरिम जमानत दी थी. अदालन ने उन्हें निर्देश दिया है कि वह छह फरवरी को स्वयं उपस्थित होकर जांच में शामिल हों. अदालत ने एक लाख रूपये के मुचलके और इतनी ही राशि की निजी जमानत पर वाड्रा को अंतरिम जमानत दी थी.

ये भी पढ़ें- रॉबर्ट वाड्रा बोले- 'मेरे वकील ED ऑफि‍स में 3 घंटे तक बैठे रहे, ले‍किन 24 घंटे में मुझे फ‍िर समन भेजा गया'

लंदन संपत्ति मामले में हो सकती है पूछताछ
सूत्रों ने कहा कि जब वाड्रा एजेंसी के समक्ष पेश होंगे तो उनसे लंदन में कुछ अचल संपत्तियों की खरीद और स्वामित्व से संबंधित सौदों के बारे में पूछा जाएगा. उनका बयान मनी लांड्रिंग रोधक कानून के तहत दर्ज किया जाएगा. 

आज ही लंदन से दिल्ली लौटेंगे वाड्रा
वाड्रा के अधिवक्ता ने अदालत को बताया कि वह 6 फरवरी को लंदन से दिल्ली लौटेंगे और जांच में शामिल होंगे. अधिवक्ता के आश्वासन पर संज्ञान लेते हुए विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार ने छह फरवरी को विदेश से लौटने के बाद वाड्रा को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश होने और जांच में सहयोग करने का निर्देश दिया है 

पेट्रोलियम सौदे से जुड़ा है मामला!
सुनवाई के दौरान ईडी की ओर से अदालत में पेश हुए विशेष लोक अभियोजक डी पी सिंह और अधिवक्ता नितेश राणा ने वाड्रा की अग्रिम जमानत अर्जी का विरोध किया और दावा किया कि 2009 में एक पेट्रोलियम सौदे में उन्होंने रिश्वत ली थी. जांच एजेंसी ने कहा कि उन्हें लंदन में कई नई संपत्तियों की सूचना मिली है जिसके मालिक वाड्रा हैं. इसमें दो घर, छह अन्य फ्लैट और अन्य संपत्ति शामिल है. दोनो घरों की कीमत 50 लाख और 40 लाख है.

इससे पहले रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) ने राजस्थान के बीकानेर में एक भूमि सौदे के संदर्भ में प्रवर्तन निदेशालय की ओर से समन किए जाने के बाद केंद्र सरकार पर राजनीति रूप से पीछे पड़ने और सरकारी विभागों के जरिए उनकी प्रतिष्ठा धूमिल करने के एजेंडे पर काम करने का आरोप लगाया. वाड्रा ने फेसबुक पोस्ट में समन को 'राजनीतिक रूप से प्रेरित' कदम करार देते हुए कहा, 'मैंने पिछले साढ़े चार वर्षों में पूरा सहयोग किया है. मैं यह करता रहूंगा.' उन्होंने सरकार पर राजनीतिक रूप से पीछे पड़ने और सरकारी विभागों के जरिये उनकी प्रतिष्ठा धूमिल करने के एजेंडे पर काम करने का आरोप लगाया था.