सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करने से खुद का नुकसान? प्रदर्शन विनाशकारी नहीं होना चाहिए: उपराष्ट्रपति

'हमारे नजरिए को बदलना होगा आखिरकार हम स्वतंत्र भारत में हैं, हमारा अपना भारत है. यदि आप सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट कर रहे हैं, तो आप देश के धन को नष्ट कर रहे हैं.'

सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करने से खुद का नुकसान? प्रदर्शन विनाशकारी नहीं होना चाहिए: उपराष्ट्रपति

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर देश के कई शहरों में हो रहे हिंसक प्रदर्शन को लेकर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने देशवासियों से शांति बनाए रखने की अपील की है. सोमवार को नई दिल्ली में नेशनल सेफ्टी अवॉर्ड प्रोग्राम में पहुंचे उपराष्ट्रपति ने कहा, 'कोई बाधा या विनाश नहीं होना चाहिए, हर किसी को निर्माण पर ध्यान देना चाहिए, और हमारे नजरिए को बदलना होगा आखिरकार हम स्वतंत्र भारत में हैं, हमारा अपना भारत है....'

उन्होंने कहा कि यदि आप सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट कर रहे हैं, तो आप देश के धन को नष्ट कर रहे हैं.

उपराष्ट्रपति ने आगे कहा, 'एक बार फिर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया. किसका नुकसान हुआ? लोगों का, देश का. तो अगर हम अपने लिए प्रदर्शन करते हैं तो थोड़ा व्यवस्थित होना चाहिए. यह कहीं से भी विनाशकारी नहीं होना चाहिए. हिंसा कहीं से भी कोई समाधान नहीं है.'

जामिया हिंसा मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, CAA का विरोध जारी
जामिया मिलिया (Jamia Millia) और अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में हिंसा मामले की सुनवाई आज (17 दिसंबर) को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में होगी. सोमवार को वकीलों ने चीफ जस्टिस कोर्ट में इसे मेंशन किया था. इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि हम ये नहीं कह रहे कि कौन निर्दोष है और कौन गलत? हम केवल ये चाहते हैं कि जो दंगा हो रहा है वो शांत होना चाहिए. CJI ने नाराजगी जताते हुए कहा था कि सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जा रहा है. हिंसा हो रही है. इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा वे छात्र हैं, इसलिए उन्हें हिंसा करने या सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की अनुमति नहीं दी जा सकती.

उधर, आज फिर सुबह 9 बजे से जामिया में प्रदर्शन शुरू होगा. जानकारी के मुताबिक नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के खिलाफ जामिया में 9 बजे प्रदर्शन किया जाएगा. दूसरी तरफ, पुलिस सूत्रों की मानें तो इस पूरे मामले में पुलिस ने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी और जामिया नगर थाने में जो FIR दर्ज की है उसमें करीब 15 लोगों के नाम शामिल हैं. जरूरत पड़ने पर और लोगों के नाम को जोड़े जा सकते हैं. जानकारी के मुताबिक यह केस क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया है. पुलिस वीडियो की मदद से हिंसा में शामिल लोगों की पहचान कर रही है.

पुलिस ने पहली FIR न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी थाने में आगजनी, दंगा फैलाने, सरकारी संपत्ति को नुकसान और सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का दर्ज किया है. दूसरी FIR जामिया नगर थाने में दंगा फैलाने, पथराव और सरकारी काम में बाधा करने का दर्ज किया है. जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी को 5 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है. 

उल्‍लेखनीय है कि जामिया नगर ( Jamia Nagar) में रविवार को छात्रों और दिल्ली पुलिस (delhi police) के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सोमवार सुबह हालात सामान्य हो गए. दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिए गए सभी छात्रों को रिहा कर दिया. वहीं दिल्ली मेट्रो के उन स्टेशनों के गेट भी खोल दिए गए जिनको रविवार शाम बंद कर दिया गया था. वहीं दिल्ली के साउथ ईस्ट जिले में ओखला, जामिया, न्यू फ्रैंड्स कालोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को सोमवार को बंद रखने का फैसला दिल्ली सरकार ने लिया था. मनीष सिसोदिया ने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी.

बता दें नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे छात्रों और पुलिस के बीच रविवार को हुई हिंसक झड़प में कई छात्र और पुलिसकर्मी भी घायल हुई थे.