close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

JNU प्रोफेसर का दावा, लेफ्ट विंग के छात्रों ने रची थी कुलपति को मारने की साजिश

करीब 500 छात्र-छात्राओं ने कुलपति के घर मे घुसने की कोशिश की. सुरक्षाकर्मियों ने जब छात्रों को रोका तो उन्होंने सुरक्षा कर्मियों के साथ हाथापाई भी की. 

JNU प्रोफेसर का दावा, लेफ्ट विंग के छात्रों ने रची थी कुलपति को मारने की साजिश
वीसी की पत्नी को आवास में छात्रों ने घंटों तक बंधक बनाए रखा.

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में सोमवार को वामपंथी विचार धारा से जुड़े हुए छात्रों की भीड़ ने कुलपति एम. जगदीश कुमार के आवास का घेराव किया. साथ ही छात्रों ने उनके आवास में जबरन घुसने का प्रयास किया और वामपंथी जमकर उत्पात मचाया. जेएनयू के कुलपति एम जगदीश कुमार ने आरोप लगाया है कि छात्रों ने उनके आवास में जबरन घुसने की कोशिश की और उनके द्वारा तोड़फोड़ की गई. उन्होंने कहा कि छात्रों ने सुरक्षाकर्मियों से धक्का-मुक्की की और  पत्नी को बंधक बना लिया.

वहीं, जेएनयू के असिस्टेंट प्रोफेसर बुद्ध सिंह ने दावा किया है कि ऐसा लग रहा है कि बाहरी लोगों ने आकर छात्रों को मॉब लिंचिंग के लिए उकसाया है. उन्होंने कहा कि मैं कह सकता हूं कि उन लोगों का हमला और हत्या करने का निश्चित प्लान था. उन्होंने कहा कि वीसी के परिवार पर हुआ हमला एक बहुत शर्मनाक घटना है. उन्होंने कहा कि इस घटना में महिला सुरक्षाकर्मियों को भी चोटें आई हैं. उन्होंने कहा कि फैक्लटी और उनके परिवार अभी भी सदमे में हैं और मान नहीं पा रहे हैं कि ऐसी कोई घटना जेएनयू में घट सकती है. 

 

 

बताया जा रहा है कि करीब 500 छात्र-छात्राओं ने कुलपति के घर मे घुसने की कोशिश की. सुरक्षाकर्मियों ने जब छात्रों को रोका तो उन्होंने सुरक्षा कर्मियों के साथ हाथापाई भी की. दरअसल, ये छात्र पिछले 5-6 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे थे. इनकी मांग थी कि कुलपति जिन यूजीसी के नियमों को जेएनयू में लागू करने की कोशिश कर रहे है उसे लागू ना किया जाए. लिहाजा, काफी संख्या में छात्र पहले वीसी के ऑफिस गए वहां उनके न होने की वजह से सुरक्षाकर्मियों के साथ हाथापाई की.

 

उसके बाद सारे छात्र कुलपति के घर पहुंच गए. यह बताने पर कि वीसी घर पर नहीं हैं, बावजूद इसके भी छात्र मानने को तैयार नही थे. घर मे वीसी की पत्नी अकेली थी जिन्हें छात्रों ने घंटों तक घर मे बंधक बनाए रखा. काफी मशक्कत के बाद जेएनयू प्रशासन के लोगों ने उन्हें बाहर निकाला और हॉस्पिटल में भर्ती कराया. घटना की जानकारी पुलिस मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत कराया. जिसके बाद छात्र अपने-अपने हॉस्टल चले गए. फिलहाल पुलिस को अभी तक कोई शिकायत नहीं दी गई है. जेएनयू से बाहर गए हुए वीसी वापस अपने घर पहुंच रहे हैं.

वहीं, कुलपति ने ट्वीट कर लिखा कि आज शाम कुछ सौ छात्रों ने जबरन मेरे जेएनयू आवास में तोड़फोड़ की और पत्नी को कई घंटों तक घर के अंदर कैद रखा. मैं एक बैठक में था. घर में अकेली महिला को डराना, क्या यह विरोध का तरीका है.