close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राज्यपाल से आज मुलाकात करेंगे मनोहर लाल खट्टर, शाम तक ले सकते हैं सीएम पद की शपथ

सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को बीजेपी विधायक दल की बैठक होगी जिसमें खट्टर को विधायक दल का नेता चुना जाएगा.

राज्यपाल से आज मुलाकात करेंगे मनोहर लाल खट्टर, शाम तक ले सकते हैं सीएम पद की शपथ
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (फाइल फोटो )

नई दिल्ली/चंडीगढ़: हरियाणा के निर्वतमान मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) आज शाम तक या शनिवार को सीएम पद की शपथ ले सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक वह आज शाम ही राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे. बता दें हरियाणा विधानसभा चुनाव (Haryana assembly Elections 2019) में बीजेपी (BJP) सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है हालांकि वह बहुमत से कुछ दूर रह गई है. 

सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को बीजेपी विधायक दल की बैठक होगी जिसमें खट्टर को विधायक दल का नेता चुना जाएगा. इसके बाद वह राज्यपाल से मुलाकात करेंगे और सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे.  सूत्रों का यह भी कहना है कि दिवाली के बाद मंत्रिमंडल का गठन हो सकता है.  वहीं खट्टर आज दिल्ली में बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी के हरियाणा प्रभारी अनिल जैन के साथ बैठक करेंगे. 

वहीं हरियाणा में बहुमत से कुछ दूर रह गई बीजेपी सरकार बनाने में कोताही नहीं बरतनी चाहती. बीजेपी गुरवार रात से ही सरकार बनाने की कोशिशों में जुट गई. सूत्रों के मुताबिक बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला से मुलाकात भी हो चुकी है. बता दें 10 सीटों पर कब्जा जमाकर जेजपी राज्य में किंगमेकर की भूमिका में आज सुकी है. 

बीजेपी को इस बार विधानसभा चुनावों में 40 सीटें मिली हैं और सरकार बनाने के लिए 6 विधायकों की ज़रूरत हैं. सूत्रों की मानें तो 8 निर्दलीय विधायकों में से 7 निर्दलीय विधायक बीजेपी को समर्थन देने के लिए तैयार हैं. 

दूसरी तरफ पीएम मोदी ने गुरुवार शाम को ही इशारा दे दिया था कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस और हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर ही मुख्यमंत्री रहेंगे. पीएम ने चुनाव परिणामों के बाद शुक्रवार को दिल्ली में बीजेपी हेडक्वार्टर में कहा, 'महाराष्ट्र में पिछले चुनाव में पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था, हरियाणा में भी सिर्फ़ दो सीटों का बहुमत था, इसके बावजूद भी दोनों मुख्यमंत्रियों (फडणवीस और मनोहर लाल) ने सबको साथ लेकर पाँच वर्ष तक महाराष्ट्र और हरियाणा की जो सेवा की, ईमानदारी के साथ राज्य के विकास के लिए, जनता की भलाई के लिए अविरत कार्य करते रहे, ये उसी का परिणाम है कि उनपर जनता ने दोबारा अपना विश्वास जताया है.'