close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली: स्कूटी पर बहनों के साथ राखी बंधवाने जा रहा था, चाइनीज मांझे से गला कटने पर मौत

चाइनीज मंझे की चपेट में आने से एक सिविल इंजीनियर की मौत हो गई और 8 लोग घायल हो गए. 

दिल्ली: स्कूटी पर बहनों के साथ राखी बंधवाने जा रहा था, चाइनीज मांझे से गला कटने पर मौत
मृतक मानव शर्मा बुध विहार का रहने वाला था (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  देश गुरुवार को 73 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा था, देशभर में रक्षा बंधन का त्यौहार भी मनाया जा रहा था. दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस पर लोग पतंग उड़ा रहे थे लेकिन पतंगबाजी की वजह से चाइनीज मांझा लोगों पर कहर बनकर टूट रहा था. चाइनीज मंझे की चपेट में आने से एक सिविल इंजीनियर की मौत हो गई और 8 लोग मांझे से घायल हो गए. 

आउटर डिस्ट्रीक्ट के एडिशनल डीसीपी राजेंद्र सिंह सागर ने बताया की 15 अगस्त की दोपहर करीब पौने 1 बजे पश्चिम विहार ईस्ट थाना पुलिस को जानकारी मिली की, एक शख्स (मानव शर्मा) स्कूटी से अपनी दो बहनों (मोनिका और नेहा शर्मा) के साथ जा रहा था, जैसे ही स्कूटी फ्लाईओवर पर पहुंची, तभी पतंग उड़ाने वाले मांझा मानव शर्मा के गले मे फंस गया जिसकी वजह से गला कटने से वह घायल हो गया.

मानव शर्मा को पास के अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. पुलिस ने इस मामले में आईपीसी की धारा 304A और 336 के तहत केस दर्ज कर लिया है.

मृतक मानव शर्मा बुध विहार का रहने वाला था. मृतक मानव शर्मा की बहन मोनिका शर्मा ने बताया की जैसे ही फ्लाईओवर पर हमारी स्कूटी पहुंची, तभी मांझा भाई के गले मे फंस गया. भाई के गले से खून बहने लगा. हम रोड से गुजर रहे लोगों से मदद मांग रहे थे, लेकिन कोई हमारी मदद को आगे नहीं आया. तभी एक महिला ने कार रोकी, वह महिला मेरे भाई को हॉस्पिटल लेकर गई, वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है. मोनिका ने बताया, 'हमने रक्षा बंधन पर राखी नही नहीं बांधी थी, बस घर पहुंचकर राखी बांधने वाले थे, तभी ये हादसा हो गया' 

कोर्ट के सख्त आदेश के बाद भी दिल्ली में हर साल चाइनीज मांझा धड़ल्ले से बिकता है और हर साल कई लोग घायल होते हैं. दिल्ली पुलिस के पीआरओ मंदीप सिंह रंधावा ने बताया की हम हर साल सरकारी आदेश के अवहेलना पर केस दर्ज करते हैं. इस बार करीब 17 मुकदमे दर्ज किए गए हैं जिनके ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की गई है.