बेटा बोला-पापा अपनी GirlFriend का इलाज करो और फिर उठा खौफनाक सच से पर्दा
topStories0hindi1539834

बेटा बोला-पापा अपनी GirlFriend का इलाज करो और फिर उठा खौफनाक सच से पर्दा

Murder in Ghaziabad: साजिश के तहत आरोपियों ने एक ट्रक ड्राइवर को पकड़ लिया और कार में बैठाकर उसे जमकर पीटा और ट्रक से मोनिका के एक्सीडेंट की बात पुलिस के सामने उगलवा ली. इसके बाद पुलिस ने एक्सीडेंट का केस दर्ज कर लिया था. 

बेटा बोला-पापा अपनी GirlFriend का इलाज करो और फिर उठा खौफनाक सच से पर्दा

गाजियाबाद: कविनगर थाना क्षेत्र में 17 जनवरी को हुए ट्रक की टक्कर से महिला की मौत के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने एक खौफनाक सच से पर्दा उठा दिया. दरअसल महिला की मौत एक्सीडेंट में नहीं, बल्कि उसकी गला दबाकर हत्या की गई थी. पुलिस ने इस मामले में शादीशुदा बॉयफ्रेंड और उसके बेटे समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पूछताछ के दौरान आरोपियों ने जो खुलासा किया, उसे सुन सब हैरान रह गए. 

17 जनवरी को कविनगर थाना पुलिस को सूचना मिली थी कि कविनगर इंडस्ट्रियल एरिया में एक महिला की लाश पड़ी हुई है. मृतका की शिनाख्त मोनिका के रूप में हुई थी. वह ग्रेटर नोएडा में बादलपुर थाना क्षेत्र की रहने वाली थी. इधर मोनिका के पति अमृत ने 18 जनवरी को कविनगर थाने में एक्सीडेंट का मुकदमा दर्ज कराया था. 19 जनवरी को पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला महिला की मौत मुंह व गला दबाकर दम घुटने से हुई है. इसके बाद पुलिस ने मामला हत्या में दर्ज कर जांच शुरू कर दी और मोनिका के एक्सीडेंट की सूचना देने वाले चरन सिंह, उसके बेटे रोहित और रोहित के दोस्त संदीप को गिरफ्तार कर लिया.

ये भी पढ़ें : Republic Day: हथियार लेकर लॉजिक्स मॉल में घुस आए दो लोग और हुआ वो जो सोचा नहीं था पुलिस ने

मोनिका और गांव के ही चरन सिंह से 7 साल से प्रेम संबंध थे. शादीशुदा चरन सिंह ने पुलिस को बताया कि मोनिका से प्रेम संबंधों की वजह से उसका बेटा रोहित व अन्य परिजन नाराज थे. इधर मोनिका एक मकान खरीदकर देने का दबाव चरन सिंह पर बना रही थी. चरन सिंह के बेटे रोहित को ये बात पता चली तो उसने विरोध किया और चरन से बोला उसने पहले ही हमारी जिंदगी नरक बना रखी है. मोनिका का कुछ इलाज करो, वरना मैं तुम्हें नहीं छोडूंगा। इस पर पिता-पुत्र ने मोनिका का मर्डर करने की साजिश रच डाली. 

कार में पिता-पुत्र ने लगाया ठिकाने 
वारदात वाले दिन 17 जनवरी की दोपहर चरन सिंह ने मोनिका को फोन करके गाजियाबाद बुलाया और जीटी रोड के एक होटल में शाम साढ़े 7 बजे तक दोनों वहां रुके. अंधेरा होने के बाद चरन सिंह, मोनिका को लेकर वहां से निकला. इधर रोहित पहले से अपनी कार लेकर तैयार खड़ा था. तीनों उस कार में बैठ गए और रात 8 बजे के आसपास पिता-पुत्र ने कार में ही मोनिका की मुंह व गला दबाकर हत्या कर दी और शव रोड पर फेंक दिया। हत्या करके चरन सिंह ऑटो से अपने गांव चला गया और सबको मोनिका के एक्सीडेंट हो जाने की बात बताई.

ड्राइवर को पीटकर एक्सीडेंट की बात बुलवाई 
इधर साजिश के तहत रोहित ने अपने दोस्त संदीप को बुला लिया और एक ट्रक ड्राइवर को पकड़ लिया और कार में बैठाकर उसे जमकर पीटा और ट्रक से मोनिका के एक्सीडेंट की बात पुलिस के सामने उगलवा ली. इधर, मोनिका के पति ने भी चरन सिंह व रोहित की बातों में आकर उस ट्रक ड्राइवर के खिलाफ एक्सीडेंट की एफआईआर करवा दी. सभी के बयानों पर ट्रक मालिक भी ये मान चुका था कि उसी के ट्रक से महिला का एक्सीडेंट हुआ है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सारी सच्चाई सामने आ गई. डीसीपी सिटी जोन निपुण अग्रवाल ने बताया कि हत्या के आरोपियों के खिलाफ केस कर लिया गया है. 

 

Trending news