आपके मोबाइल में मौजूद ये App आपको पहुंचा सकता है जेल, संभलकर करें इस्तेमाल
topStorieshindi

आपके मोबाइल में मौजूद ये App आपको पहुंचा सकता है जेल, संभलकर करें इस्तेमाल

हम रोजाना न जाने कितनी चीजें इंटरनेट पर सर्च करते हैं. खाना बनाने से लेकर पढ़ाई करने तक लगभग सारे काम आजकल हम इंटरनेट की मदद से ही करते हैं. कोरोना के बाद से इंटरनेट यूजर्स के आंकड़ों तो गजब का उछाल आया है.

आपके मोबाइल में मौजूद ये App आपको पहुंचा सकता है जेल, संभलकर करें इस्तेमाल

प्रिंस कुमार/नई दिल्ली: हम रोजाना न जाने कितनी चीजें इंटरनेट पर सर्च करते हैं. खाना बनाने से लेकर पढ़ाई करने तक लगभग सारे काम आजकल हम इंटरनेट की मदद से ही करते हैं. कोरोना के बाद से इंटरनेट यूजर्स के आंकड़ों तो गजब का उछाल आया है. इंटरनेट ने बेशक हमारे जीवन को आसान बनाया है, लेकिन इसके अपने कुछ नुकसान भी हैं. आज हम आपको बताएंगे Google पर Search होने वाली ऐसे Topics के बारे में जिनके बारे में सर्च करना आपको परेशानी में डाल सकता है. इतना ही नहीं आप जेल भी जा सकते हैं.

गूगल सर्च (Google Search Tools) के अपने खुद के कई Conditions हैं जिसका उल्लंघन करने पर आपके ऊपर कारवाई हो सकती है, साथ ही IPC के भी कुछ ऐसे नियम हैं जो आपको गूगल पर कुछ चीजों को सर्च करने से मना करती है. 

चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखना
POCSO एक्ट 2012 के सेक्शन 14 के तहत भारत में चाइल्ड पॉर्न देखना, बनाना या उसे सुरक्षित रखना आपराधिक गतिविधियों के श्रेणी में आता है. गूगल पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी सर्च करना आपको मुसीबतों में डाल सकता है. ऐसा करने पर आपको 5000 तक का जुर्माना और 7 साल तक की जेल भी हो सकती है.

ये भी पढ़ें: 51 साल की उम्र में फिर से पिता बनने जा रहे Manoj Tiwari, Baby Shower का वीडियो किया शेयर

बम बनाने का तरीका जानना
सुरक्षा एजेंसियां देशभर में घटने वाली सारी गतिविधियों के पर अपनी पैनी नजर बनाए रखती हैं. ऐसे में अगर आप गूगल या किसी भी सर्च इंजन पर बम बनाने के तरीकों को सर्च करते हैं तो आप कानून के घेरे में आ जाते हैं. ऐसा करना आपके लिए मुसीबत बन सकती है. 

पाइरेटेड मूवीज डाउनलोड करना
हम सब अपने खाली समय में फिल्में देखना बेहद पसंद करते हैं. फिल्में हमारी मनोरंजन के साथ हमें तरोताजा भी करती हैं. लेकिन कई बार फिल्में हमें मुसीबतों में भी डाल सकती हैं. जी हां, इंटरनेट से पाइरेटेड फिल्में देखना और उन्हें डाउनलोड करना कानूनी अपराध की श्रेणी में आता है और ऐसा करने से यूजर पर कानूनी डंडे बरस सकते हैं.

Trending news