Sagar Dhankar हत्याकांड में Crime Branch ने तैयार की चार्जशीट, Sushil Kumar की मुश्किलें बढ़ीं

Sagar Dhankar Murder Case: सागर धनकड़ हत्याकांड में रेसलर सुशील कुमार मुख्य आरोपी है. पुलिस इस केस में अब तक 15 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है.

Sagar Dhankar हत्याकांड में Crime Branch ने तैयार की चार्जशीट, Sushil Kumar की मुश्किलें बढ़ीं
रेसलर सुशील कुमार (फाइल फोटो) | फोटो साभार: PTI

नई दिल्ली: सागर धनकड़ हत्याकांड (Sagar Dhankar Murder Case) के मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट (Crime Branch Charge Sheet) तैयार कर ली है. सोमवार यानी कल दिल्ली पुलिस इस मामले में यह महत्वपूर्ण चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर सकती है. पहलवान सुशील कुमार (Sushil Kumar) सागर धनकड़ हत्याकांड का मुख्य आरोपी है.

सागर हत्याकांड में 20 आरोपी थे शामिल

बता दें कि क्राइम ब्रांच (Crime Branch) की करीब 3 महीने की तफ्तीश में सामने आया है कि मामले में सुशील कुमार समेत कुल 20 आरोपी शामिल हैं. जिसमें से अब तक दिल्ली पुलिस (Delhi Police) क्राइम ब्रांच स्पेशल सेल कुल 15 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है. ये 15 गिरफ्तारियां दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) और हरियाणा (Haryana) से हुई है.

मर्डर केस के 5 आरोपी अब तक हैं फरार

इस मामले के पांच आरोपी अभी भी फरार चल रहे हैं, जिसमें तीन इनामी बदमाश भी शामिल हैं. सागर हत्याकांड के इनामी बदमाश प्रवीण उर्फ चोटी, जोगेंद्र काला और राहुल फरार हैं.

ये भी पढ़ें- आज से UN सुरक्षा परिषद का अध्यक्ष बना भारत, PM मोदी की अगुवाई में होगी बैठक

जांच में सामने आई ये बात

जांच के दौरान पता चला है कि वर्चस्व की लड़ाई के चलते सागर पहलवान की हत्या की गई थी. सुशील पहलवान के खेमे के जूनियर पहलवान सागर पहलवान की टीम में चले गए थे, जिसकी वजह से सुशील पहलवान नाराज था.

सागर को मारने के लिए की गई थी प्लानिंग

क्राइम ब्रांच की तफ्तीश के मुताबिक, 4 मई की शाम सुशील कुमार और अन्य आरोपियों की मीटिंग हुई थी. जिसके बाद 4 और 5 मई की रात ही छत्रसाल स्टेडियम में सागर पहलवान के साथ मारपीट की गई, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई.

सागर पहलवान की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, सागर की मौत गंभीर चोट लगने के कारण हुई थी. तफ्तीश में इस हत्याकांड में दिल्ली पुलिस ने आईपीसी की धारा 302  यानी हत्या, 308 यानी जानलेवा चोट पहुंचाना, 307 हत्या का प्रयास, 364, 365 यानी अपरहण, 147, 149, 269, 188, 342, 325, 452, 505(2), 392, 394, 397, 411, 120 यानी आपराधिक साजिश और 25/27 आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें- गुपकार गठबंधन में पड़ गई फूट! महबूबा मुफ्ती के इस बयान से उठे सवाल

जान लें कि इस मामले में क्राइम ब्रांच ने 50 से ज्यादा गवाह बनाए हैं. वहीं मारपीट की घटना जिस मोबाइल फोन में कैद हुई उसकी फुटेज की फॉरेंसिक रिपोर्ट, कुछ सीसीटीवी की फुटेज और छत्रसाल स्टेडियम में मौजूद लोगों के बयानों को भी तफ्तीश में शामिल किया गया है.

तफ्तीश में सामने आया है कि कैसे सुशील पहलवान की आड़ में सागर हत्याकांड में शामिल आरोपी और पहलवानों के दोनों खेमे के लोग विवादित जमीन की खरीद-फरोख्त, कब्जा दिलाना और उगाही के रैकेट से जुड़े थे. इन पहलवानों का कनेक्शन गैंगस्टर काला जठेड़ी से भी था.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.