close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बोइंग 737-800 मैक्‍स क्रैश के बाद पूरी दुनिया में है इस विमान को लेकर खौफ का माहौल

बीते 5 महीनों में बोइंग 737-800 मैक्‍स मेक के दो विमान हो चुके हैं क्रैश, विमान हादसे में जा चुकी है 338 मुसाफिरों की जान, चीन और इथियोपियन एयरलाइंस के प्रतिबंध के बाद डीजीसीए ने भी जारी किए सुरक्षा निर्देश

बोइंग 737-800 मैक्‍स क्रैश के बाद पूरी दुनिया में है इस विमान को लेकर खौफ का माहौल
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली: इथियोपियन एयरलाइंस के विमान बोइंग 737-800 मैक्‍स के क्रैश के बाद पूरी दुनिया में इस विमान को लेकर खौफ का माहौल है. चीन और इथियोपियन एयरलाइंस ने बोइंग 737-800 मैक्‍स मेक के सभी विमानों के उड़ान भरने पर प्रतिबंध लगा दिया है. वहीं भारत के एविएशन रेगुलेटर डीजीसीए ने भी बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान को लेकर सुरक्षा निर्देश जारी किए हैं. 

उल्‍लेखनीय है कि रविवार को इथियोपियन एयरलाइंस का विमान बोइंग 737-800 मैक्‍स क्रैश हो गया था, जिसमें 149 मुसाफिर और 8 क्रू सदस्‍यों की मौत हो गई थी. वहीं 29 अक्‍टूबर को भी बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान हादसे का शिकार हुआ था, जिसमें 189 मुसाफिरों की मृत्‍यु हो गई थी. यह विमान इंडो‍नेशिया की लायन एयरलाइंस का था. 

भारत में इन दो एयरलाइंस के पास हैं  बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान 
पांच महीनों की अल्‍पावधि में बोइंग 737-800 मैक्‍स मेक के दो विमान क्रैश हो चुके हैं. जिसके बाद पूरी दुनिया इन विमानों के प्रयोग को लेकर खौफ में है. खौफ का आलम यह है कि दो एयरलाइंस ने बोइंग 737-800 मैक्‍स मेक के सभी विमानों को ग्राउंड कर दिया है, वहीं मुसाफिरों की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए डीजीसीए ने भी इन विमानों के प्रयोग को लेकर सुरक्षा निर्देश जारी किए हैं.

सूत्रों के अनुसार, सोमवार देर रात्रि या मंगलवार सुबह डीजीसीए भी भारत में इन विमानों के प्रयोग को लेकर दिशा निर्देश जारी कर सकती है. उल्‍लेखनीय है कि भारत में स्‍पाइस जेट और जेट एयरवेज दो ऐसी एयरलाइंस हैं, जो वर्तमान समय में बोइंग 737-800 मैक्‍स विमान का इस्‍तेमाल कर रही हैं. जिसमें जेट एयरवेज के पास 5 और स्‍पाइस जेट एयरलाइन के पास इस मेक के 13 विमान हैं. 

भारतीय एयरलाइंस ने दिए हैं 200 विमानों के आर्डर 
विमानन क्षेत्र से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, स्‍पाइस जेट और जेट एयरवेज सहित कुछ अन्‍य एयरलाइंस ने बोइंग 737-800 मैक्‍स मेक के 200 नए विमानों का आर्डर बोइंग कंपनी को दिए हैं. फिलहाल, जेट एयरवेज बोइंग 737-800 मैक्‍स विमानों का उपयोग वित्‍तीय संकट के चलते नहीं कर पा रही है. जेट एयरवेज के बेडे में मौजूद सभी बोइंग 737-800 मैक्‍स फिलहाल ग्राउंड हैं. 

वहीं इस बाबत डीजीसीए के वरिष्‍ठ अधिकारी का कहना है कि 10 मार्च को यूथोपिꚯࠀन एयरलाइन के विमान बोइंग 737-800 मैक्‍स के क्रैश के बाद डीजीसीए पूरे मामले के सुरक्षा पहलू की विवेचना कर रहा है. जल्‍द ही डीजीसीए भारतीय विमानन कंपनियों के लिए इस विमान के उपयोग को लेकर नए दिशा निर्देश जारी करेगी. इस हादसे को लेकर बोइंग कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि उनकी टेक्‍निकल टीम क्रैश साइट के लिए रवाना हो गई है. जिससे हादसे के तकनीकी पहलुओं को पता किया जा सके.