जम्मू-कश्मीर में हाई अलर्ट, फिर हो सकता है पुलवामा जैसे आतंकवादी हमला

हमले का इंटेलीजेंस इनपुट मिलने के बाद सुरक्षाबलों केा हाई अलर्ट पर रखा गया है.

जम्मू-कश्मीर में हाई अलर्ट, फिर हो सकता है पुलवामा जैसे आतंकवादी हमला

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) में एक बार फिर पुलवामा (Pulwama) जैसा बड़ा और आत्मघती हमला हो सकता है. इंटेलीजेंस से मिले सुुर इस इनपुट के बाद सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. साथ ही उत्तर और मध्य कश्मीर में सुरक्षा और कड़ी कर दी गई है. इनपुट के अनुसार आतंकवादी एक बार फिर कार में IED रखकर देश में अशांति फैलाने की कोशिश कर सकते हैं. 

सूत्रों की मानें तो आतंकी संगठन लश्कर उत्तरी कश्मीर से मध्य कश्मीर के बीच किसी हाइवे पर बने नाके को अपना निशाना बना सकता है. इसमें सबसे मख्य मार्ग श्रीनगर बारामुला राजमार्ग है. जिसके मद्देनजर सुरक्षाबलों की भारी तैनाती इस राज्यमार्ग पर की गई है. इसके अलावा सूचना ये भी है कि आतंकवादी बारामूला में पट्टन एरिया से एचएमटी के बीच भी अपने मनसुबों को अंजाम दे सकते हैं.

ये बताया जा रहा है कि इस स्थान का पुनर्ग्रहण OGW द्वारा किया गया है और ये पूरी योजना एक विदेशी आतंकवादी रहमान भाई ने बनाई है. जानकारी के अनुसार आतंकवादी इस बार एम्बुलेंस का उपयोग कर सकते हैं और किसी चैक पोस्ट के पास वारदात को अंजाम दे सकते हैं. हमले की सूचना मिलते ही सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. वहीं पट्टन, सोपोर और हंदवाड़ा जैसे क्षेत्रों सुरक्षा बलों की तैनात को बढ़ा दिया गया है.

सेना के एक अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि हमें एक आत्मघती हमले का इनपुट मिला है. जिसे बाद से सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. उन्होंने बताया कि आतंकवादी अधिक से अधिक नुकसान पहुंचाने के लिए चलती आईईडी का उपयोग कर सकते हैं. जिसके मद्देनजर क्षेत्र में सतर्कता अधिक हो गई है. इसके साथ ही चेक पोस्ट की सुरक्षा और जांच आदि की जा रही है. इसके अलावा आर्मी रोड ओपनिंग पार्टियों को भी हाईवे पर किसी भी तरह की आवाजाही शुरू होने से पहले सतर्कता बरतने और पूरी तरह से चेकिंग करने के लिए कहा जाता है. 

ये भी पढ़ें:- DU और सभी कॉलेज की आगामी परीक्षाएं स्थगित, इस आधार पर जारी होंगे रिजल्ट

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.