गोवा के नए CM प्रमोद सावंत बोले- 'मनोहर पर्रिकर मुझे राजनीति में लाए'

गोवा विधानसभा के अध्यक्ष से मुख्यमंत्री बने प्रमोद सावंत ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें राजनीति में लाये जाने का श्रेय दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को जाता है.

गोवा के नए CM प्रमोद सावंत बोले- 'मनोहर पर्रिकर मुझे राजनीति में लाए'
गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत महज 46 साल के हैं.
Play

पणजी: बीमारी के चलते मनोहर पर्रिकर की असामयिक मौत के चलते प्रमोद सावंत को सोमवार देर शाम गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया. प्रमोद सावंत ने कहा कि उनकी पार्टी बीजेपी ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है. गोवा विधानसभा के अध्यक्ष से मुख्यमंत्री बने सावंत ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें राजनीति में लाये जाने का श्रेय दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को जाता है.

बीजेपी के प्रमोद सावंत ने सोमवार की देर रात गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने यहां देर रात लगभग दो बजे राजभवन में 46 वर्षीय सावंत को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. सावंत के अलावा पर्रिकर के नेतृत्व वाली कैबिनेट का हिस्सा रहे 11 विधायकों ने भी मंत्रियों के रूप में शपथ ली.

पहले यह शपथ ग्रहण समारोह सोमवार की रात 11 बजे होना था लेकिन कुछ कारणों के कारण इसमें विलंब हुआ. सावंत गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे. इससे पहले सावंत ने कहा था कि उनकी पार्टी बीजेपी ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है.

इससे पहले गोवा के मुख्यमंत्री का अंतिम संस्कार सोमवार को राजकीय सम्मान के साथ किया गया और इस अवसर पर हजारों लोगों ने नम आंखों के साथ अपने इस लोकप्रिय नेता को अंतिम विदाई दी. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, विभिन्न केन्द्रीय मंत्री एवं बीजेपी शासित प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने मीरामार में हुई परिकर की अंत्येष्टि में हिस्सा लिया. पर्रिकर की चिता को उनके ज्येष्ठ पुत्र उत्पल ने मुखाग्नि दी. 

बीजेपी के इस लोकप्रिय नेता की शवयात्रा ‘कला अकादमी’ से शुरू हुई जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित सैकड़ों लोगों ने पूर्व रक्षा मंत्री को श्रद्धांजलि दी. पर्रिकर (63 वर्ष) के पार्थिव शरीर को फूलों से सजाये गये वाहन में रखा गया था. इसी वाहन से उनके पार्थिव शरीर को मीरमार तट पर ले जाया गया जहां उनका अंतिम संस्कार सम्पन्न किया गया.

गोवा के इस लोकप्रिय नेता का रविवार को लम्बी बीमारी के बाद निधन हुआ था. उनकी लोकप्रियता का अंदाजा हजारों की संख्या में उन्हें श्रद्धांजलि देने आए आम लोगों और बीजेपी कार्यकर्ताओं की भीड़ से लग रहा था. उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए आम नागरिकों एवं पार्टी कार्यकर्ताओं की लम्बी कतार लगी हुई थी.