close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुषमा स्वराज पंचतत्व में विलीन, लोधी रोड विद्युत शवदाह गृह में हुआ अंतिम संस्कार

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma swaraj) का मंगलवार रात एम्स में निधन हो गया. वह 67 साल की थीं. 

सुषमा स्वराज पंचतत्व में विलीन, लोधी रोड विद्युत शवदाह गृह में हुआ अंतिम संस्कार
सुषमा स्वराज को अंतित विदाई देते हुए हर किसी की आंखें नम दिखी.

नई दिल्ली: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का अंतिम संस्कार लोधी रोड स्थित शवदाह गृह में हुआ. उनकी बेटी बांसुरी सुषमा ने अंतिम संस्कार की रस्म पूरी की. पीएम मोदी, अमित शाह, केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत भी वहां पर मौजूद हैं. इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए बीजेपी मुख्यालय में रखा गया.

राज्यसभा में भी सुषमा स्वराज के निधन पर शोक व्यक्त किया है. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सुषमा के निधन पर शोक पत्र पढ़ा और बाद में दो मिनट का मौन रखा गया. 

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दी. इस दौरान उनकी बेटी प्रतिभा आडवाणी भी साथ रहीं. यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला, दिग्विजय सिंह भी सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने पहुंचे हैं. सुषमा के निधन के शोक में भारतीय जनता पार्टी के मुख्यालय में पार्टी का झंडा आधा झुका दिया गया है.

बीजेपी कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि पार्टी ने आज के सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं. उन्होंने अपने एक ट्वीट में कहा, "हमारी वरिष्ठ नेत्री सुषमा स्वराज जी के आकस्मिक निधन से भाजपा परिवार का प्रत्येक सदस्य शोकाकुल और स्तब्ध है. आज बीजेपी के सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए. सुषमा जी का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए आज 12 बजे भाजपा मुख्यालय पर लाया जाएगा." 

ये भी पढ़ें: सुषमा स्वराज के निधन पर हरसिमरत कौर ने साझा की पुरानी तस्वीर, बोलीं- 'मैंने बड़ी बहन को खो दिया'

बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने भी सुषमा स्वराज के निधन पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने एक बयान जारी करके कहा कि सुषमा का जाना देश के लिए एक बड़ी क्षति है, साथ ही व्यक्तिगत तौर पर उनके लिए एक बड़ी क्षति है.

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma swaraj) का मंगलवार रात एम्स में निधन हो गया. वह 67 साल की थीं. सुषमा को दिल का दौरा पड़ने के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था, लेकिन कुछ ही देर बार उनका निधन हो गया. उन्होंने अपने अंतिम ट्वीट में कश्मीर पर सरकार के कदम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी थी. उन्होंने कहा था कि वह इस दिन का पूरे जीवनभर इंतजार कर रही थीं. सुषमा ने पिछला लोकसभा चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया था. अंतिम दर्शन के लिए उनके आवास पर नेताओं का तांता लगा हुआ है. 

पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन करना चाहते हैं तो ये है पूरा कार्यक्रम-
- बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बताया कि रात करीब 12 बजे सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को एम्स से उनके निजी आवास धवन द्वीप ब्लीडिंग पर ले जाया गया. बुधवार को सुबह करीब 11 बजे तक पार्थिव शरीर यहीं रखा जाएगा. सुषमा के चाहने वाले यहां आकर उनका अंतिम दर्शन कर सकते हैं. धवनदीप बिल्डिंग जंतर-मंतर रोड पर स्थित है.

 

- बुधवार दिन में करीब 12 बजे सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को बीजेपी मुख्यालय ले जाया जाएगा. यहां सुषमा को चाहने वाले बिना किसी रोक-टोक के अंतिम दर्शन कर पाएंगे.

 

- दिन में तीन बजे के बाद पार्थिव शरीर को लोधी रोड स्थित विद्युत शवदाव गृह ले जाया जाएगा. यहीं उनका अंतिम संस्कार होगा. नड्डा ने बताया कि यहां भी आम लोगों को सुषमा के पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन का मौका मिलेगा.

- पूरे राजकीय सम्मान के साथ सुषमा स्वराज का अंतिम संस्कार किया जाएगा.

आइये डालते हैं उनके राजनीतिक सफर पर एक नजर...
सियासत की 'सुषमा' 
-25 साल की उम्र में मंत्री             
-7 बार सांसद
-पहली महिला विदेश मंत्री 
-दिल्ली की पहली महिला सीएम

'अटल युग' से 'मोदी राज' तक 
वाजपेयी सरकार में मंत्री                                            
मोदी सरकार में मंत्री
1996: सूचना-प्रसारण मंत्री                                         
2014: विदेश मंत्री

राजनीति में पहली बार सुषमा 
1977 : पहली बार विधायक                                                                 
1990 : पहली बार सांसद
1996 : पहली बार केंद्रीय मंत्री 
1998 : पहली बार मुख्यमंत्री