पहली बार सावन के तीसरे सोमवार में खाली निकली बाबा महाकाल की सवारी

सावन के तीसरे सोमवार को शाम 4:00 बजे बाबा महाकाल की सवारी निकाली गई. महाकाल मंदिर के सामने पहले सशस्त्र बल की टुकड़ी ने राजा महाकाल को सलामी दी. इसके बाद सवारी शिप्रा नदी के रामघाट के लिए रवाना हुई.

पहली बार सावन के तीसरे सोमवार में खाली निकली बाबा महाकाल की सवारी
फाइल फोटो

उज्जैन: सावन के तीसरे सोमवार को शाम 4:00 बजे बाबा महाकाल की सवारी निकाली गई. महाकाल मंदिर के सामने पहले सशस्त्र बल की टुकड़ी ने राजा महाकाल को सलामी दी. इसके बाद सवारी शिप्रा नदी के रामघाट के लिए रवाना हुई. शिप्रा नदी के रामघाट पहुंचने पर चंद्रमौलेश्वर और मन महेश के रूप में भगवान महाकाल ने अपने भक्तों को दर्शन दिए.

मान्यता है कि बाबा महाकाल अपने भक्तों का हाल जानने शहर भ्रमण पर निकलते हैं. लेकिन कोरोना वायरस के चलते सावन में सवारी परिवर्तित मार्ग से निकाली जा रही है. बता दें कि इसमें आम श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित किया गया था और किसी को भी सवारी देखने या उसमें शामिल होने की अनुमति नहीं थी.

ये भी पढ़ें-छत्तीसगढ़: रायपुर में 22 से 28 जुलाई तक पूर्ण लॉकडाउन, इस बार होगी पहले से ज्यादा सख्ती

हालांकि मंदिर समिति द्वारा भक्तों के लिए सवारी देखने की व्यवस्था सोशल मीडिया के माध्यम से लाइव की थी. माना जा रहा है कि सोमती अमावस्या और हरियाली अमावस्या के साथ-साथ सावन माह का तीसरा सोमवार भी होने के चलते ये विशेष संयोग बना है. जिसे लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह देखते ही बन रहा है.  

Watch LIVE TV-