आधा दर्जन लोगों से ठगे 60 लाख, जानिए कैसे एक दम्पत्ति ने खाली की पूंजीपतियों की तिजोरी?

प्रदेश की राजधानी पुलिस, जब उन्हें पकड़ने के लिए पंजाब के जालंधर पहुंची, तब भी ये दोनों लुटेरे दंपत्ति लोगों को ठगने की योजना पर ही काम कर रहे थे.

आधा दर्जन लोगों से ठगे 60 लाख, जानिए कैसे एक दम्पत्ति ने खाली की पूंजीपतियों की तिजोरी?
सांकेतिक तस्वीर

भोपालः देश के कई हिस्सों में अक्सर आपने ठगों के बारे में पढ़ा होगा, देखा होगा या सुना होगा. लेकिन आज जिन शातिर लुटेरों की बात हम करने वाले है उनके बारे में शायद ही आपने कहीं पढ़ा या सुना होगा. इस पति-पत्नी के जोड़े ने प्रदेश के बड़े-बड़ों की शातिरता को धूल चटा दिया था, लेकिन भोपाल पुलिस के तेज दिमाग के आगे इनकी एक न चली. 

इस दंपत्ति ने गिरफ्त में आने से पहले प्रदेश के 6 ही लोगों को ठगी में जाल में ऐसा फसाया कि उनसे 60 लाख रुपये ऐठ लिए. और जब पुलिस उनके पास पहुंची, तब भी उनके पास से 6 लाख से ज्यादा की नगदी और लूट के रुपयों से खरीदी गयी एक कार पकड़ायी. इतना ही नहीं उनके पास से घरेलू इलेक्ट्रॉनिक सामान और घर के कागजात भी बरामद किए गए. 

ये भी पढ़ेंः- मुफ्त वैक्सीन के सवाल पर कैलाश विजयवर्गीय बोले- कांग्रेसियों को भी देंगे

यहां तक कि प्रदेश की राजधानी पुलिस, जब उन्हें पकड़ने के लिए पंजाब के जालंधर पहुंची, तब भी ये दोनों लुटेरे दंपत्ति लोगों को ठगने की योजना पर ही काम कर रहे थे. 

AMPM से किया शिकार
भोपाल का रहने वाला मनीष शर्मा नामक ये ठग शेयर मार्केट इन्वेस्टर बताया जाता है. जिसके खिलाफ संतोष दास बैरागी नाम के पीड़ित ने क्राइम ब्रांच थाने में रिपोर्ट लिखवाई थी. ये ठग अपनी पत्नी मनीषा शर्मा के साथ मिलकर AMPM नामक कंपनी चलाता है. जिसमें वो लोगों को उनके पैसों पर बैंक से ज्यादा इंटरेस्ट (ब्याज) देने का वादा करता और स्कीम से जुड़वा लेता.

ये भी पढ़ेंः- लो भइया प्याज के दाम फिर बढ़ गए! लेकिन हर साल ठंड ही में क्यों बढ़ते हैं?

इस स्कीम में फंसने वाला संतोष बैरागी अकेला इंसान नहीं था, आरोपियों ने और भी लोगों को अपने इस मायाजाल में फंसाया था. दंपत्ति ने अपने जाल में 5 और पूंजीपतियों को फंसाकर उनसे करीब 60 लाख रुपये लिए और वहां से रफू चक्कर हो गए. दो लोगों ने तो उनके जाल में आकर 18 से 23 लाख रुपये उन्हें डबल करने के लिए दे डाले थे. 

'लक्ष्मी चिट फंड' योजना
पैसा जमा कराने वाले लोगों ने कुछ दिनों बाद जब, ब्याज में मिला पैसा मांगने के लिए दंपत्ति को फोन किया, तब पता चला कि दोनों फरार हो चुके है. और उन्हें अक्षय कुमार की 'हेरा-फेरी' फिल्म की 'लक्ष्मी चिटफंड' कंपनी की तरह लूट लिया गया है. इस फिल्म में भी एक किरदार 'लक्ष्मी चिटफंट' नामक नकली कम्पनी बनाकर उन्हें 21 दिन में पैसा डबल करने का लालच देती थी. और पैसा लेकर रफू चक्कर हो जाया करती थी. 

ये भी पढ़ेंः- शिवराज का तंज, ''जनता को सुविधाएं दीं तो कांग्रेसी कह रहे भूखा-नंगा और कमीना''

भोपाल के 6 लोगों से 60 लाख रुपये लूटने के बाद दंपत्ति ने अपने मोबाइल नंबर और सभी सोशल मीडिया अकाउंट बंद कर लिए थे. दोनों लोग पंजाब के जालंधर में जाकर किसी और को अपने जाल में फंसाकर ठगने की प्लानिंग कर ही रहे थे. तभी भोपाल क्राइम ब्रांच पुलिस वहां पहुंच गई और दोनों आरोपियों को साढ़े 6 लाख रुपये नगदी, घर के कागजात और कुछ सामान के साथ धरदबोचा. 

दोनों आरोपी मनीष शर्मा और मनीषा शर्मा को खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज करते हुए केस चलाया जा रहा है. 

WATCH LIVE TV