MP: विधानसभा तक बीजेपी ने किया पैदल मार्च, गरीबों की योजनाएं बंद करने का लगाया आरोप

बीजेपी का आरोप है कि सरकार ने गरीबों के कल्याण के लिए चलाई गई योजनाओं को बंद कर दिया है. संबल योजना का लाभ गरीबो को नही मिल रहा है.

MP: विधानसभा तक बीजेपी ने किया पैदल मार्च, गरीबों की योजनाएं बंद करने का लगाया आरोप
नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने पैदल मार्च के दौरान कहा कि गरीबों की लड़ाई है, सड़क से विधानसभा तक. गरीबों की लड़ाई है पूरी तरह से लड़ी जाएगी.

विवेक पटैया/भोपाल: मध्य प्रदेश में बीजेपी विधायकों ने अपने पूर्व तय कार्यक्रम के अनुरूप आज गरीबों के मुद्दे पर सड़क से लेकर सदन तक पैदल मार्च किया. मुख्य विपक्षी दल बीजेपी के विधायक शुक्रवार को बिड़ला मंदिर से विधानसभा तक गरीब विरोधी कमलनाथ सरकार का नारा लगाते हुए पैदल मार्च करते हुए विधानसभा पहुंचे. नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, शिवराज सिंह चौहान, डॉ. नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह सहित सभी विधायक एप्रिन पहनकर पैदल मार्च कर रहे थे. 

बीजेपी का आरोप है कि सरकार ने गरीबों के कल्याण के लिए चलाई गई योजनाओं को बंद कर दिया है. संबल योजना का लाभ गरीबो को नही मिल रहा है. बिजली के बढ़े हुए बिल गरीबों को भेजे जा रहे हैं. गरीबों से वसूली की जा रही है. अंत्येष्टि की सहायता राशि देना बंद कर दिया. गरीबों को समय पर पेंशन नही मिल रही है. ऐसे तमाम आरोप शिवराज सिंह चौहान,गोपाल भार्गव सहित तमाम विपक्षी नेताओं ने लगाए.

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने पैदल मार्च के दौरान कहा कि गरीबों की लड़ाई है, सड़क से विधानसभा तक. गरीबों की लड़ाई है पूरी तरह से लड़ी जाएगी. मृत्यु पर गरीब परिवार को दी जाने वाली 2 लाख की राशि बंद कर दी. दुर्घटना में 4 लाख की राशि हम देते थे, बंद कर दी. कफन-दफन के लिए 5 हज़ार की राशि बंद कर दी. महिलाओं की डिलिवरी के लिए 16 हज़ार रुपये देते थे, बंद कर दिए. अतिथि विद्वान, संबल योजना, बेरोजगारों का मुद्दा है. गरीबों की योजनाओं की बंद कर अत्याचार कर रहे हैं.

संबल योजना में भारी भ्रष्टाचार का आरोप कमलनाथ सरकार पूर्ववर्ती शिवराज सरकार पर लगाती रही है. संबल योजना में पात्र लोगों के नाम पर अपात्रों को लाभ पहुंचाने के आरोप शिवराज सिंह चौहान की सरकार पर श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया लगाते रहे हैं. महेंद्र सिंह सिसोदिया ने पूर्व में आरोप लगाया था कि संबल योजना में गरीबों के लिए केवल 200 रुपये में फ्री में बिजली देने की घोषणा शिवराज सिंह चौहान ने की थी. इसकी जांच में 2 करोड़ 20 लाख हितग्राहियों में से 76 लाख लोग अपात्र मिले हैं. जो  आयकरदाता हैं और 200 रुपये में बिजली का लाभ ले रहे थे. इससे 3 हजार करोड़ की सब्सिडी का भार शासन पर पड़ा है. संबल योजना में 76 लाख लोग फर्जी पाए गए हैं. यह मामला कैबिनेट की बैठक में जायेगा.

मुंह चला रही सरकार- शिवराज सिंह चौहान
वहीं, शिवराज सिंह चौहान ने संबल योजना में गड़बड़ी के आरोप के जवाब में कहा कि कमलनाथ सरकार केवल मुंह चला रही है. कुछ नही कर रही है और गरीबो को मार रही है. गौरतलब है कि विपक्ष इस शीतकालीन सत्र में एकजुट होकर आक्रामक अंदाज में सरकार को सड़क से लेकर सदन तक हर मुद्दे पर घेरने की रणनीति पर काम कर रहा है. विपक्ष के तमाम नेता हर मुद्दे पर सरकार को घेर रहे हैं. 

बीजेपी विधायक दल ने तय किया था कि शीतकालीन सत्र में हर दिन एक मुद्दे पर पैदल मार्च करते हुए विधायक सदन में प्रवेश करेंगे. BJP विधायकों ने पहले दिन यूरिया संकट और किसानों के मुद्दे पर पैदल मार्च किया था. दूसरे दिन युवाओं और बेरोजगारी के मुद्दे पर पैदल मार्च किया और आज तीसरे दिन गरीबों के मुद्दे पर पैदल मार्च किया है. सदन में भी विपक्ष का आक्रामक रुख है. लगता है विपक्ष ने पिछले विधान सभा सत्र से सबक लिया है क्योंकि, पिछले सत्र में विपक्ष के बिखराव का फायदा उठाते हुए कांग्रेस ने विपक्ष के दो विधायकों को मत विभाजन में अपने पाले में लाने में कामयाब हो गई थी.