close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

CG: कांग्रेस सरकार के प्लास्टिक बैन पर BJP बोली- 'उनके फैसले का स्वागत करते हैं, लेकिन...'

बीजेपी ने इस फैसले का स्वागत किया है, लेकिन उनका कहना है कि सरकार एक तरफ प्लास्टिक की बोतल में शराब परोस रही है जो सबसे ज्यादा घातक है. इससे बहुत गंभीर बीमारियां हो रही हैं और दूसरी तरफ प्लास्टिक बैन करने को लेकर केवल अधिसूचना जारी की जा रही है.

CG: कांग्रेस सरकार के प्लास्टिक बैन पर BJP बोली- 'उनके फैसले का स्वागत करते हैं, लेकिन...'
प्लास्टिक से बने तमाम चीजों के निर्माण पर पूरी तरीके से रोक लगाई जाए

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ में प्लास्टिक के उपयोग पर लगे प्रतिबंध का पूरे प्रदेश ने स्वागत किया है. प्लास्टिक के उपयोग पर लगी रोक को लेकर रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे ने कहा हम अपने आर नगर निगम और तमाम आयोजनों में प्लास्टिक को पूरी तरीके से बैन करेंगे और इसका उपयोग करने वाले सभी जगह पर इसे प्रतिबंधित किया जाएगा. प्लास्टिक के पॉलिथीन हमने पहले भी बैन कर रखे थे, लेकिन इसके सामग्री के निर्माण में बैन होने से काफी मदद मिलेगी और हम लोगों से भी अपील करते हैं कि प्लास्टिक के उपयोग को पूरी तरीके से छोड़कर दूसरे ऑप्शन कागज या जूट से बनी चीजों के इस्तेमाल पर ध्यान लगाएं.

प्लास्टिक बैन करने का मैं स्वागत करता हूं लेकिन इसे धीरे-धीरे कड़ाई से लागू करना होगा क्योंकि प्लास्टिक हमारी धरती से लेकर हमारे खाने पीने की चीजें और पूरे पर्यावरण को दूषित कर रही है. प्लास्टिक एक ऐसी चीज है, जो पर्यावरण प्रकृति में नहीं पाई जाती है. मतलब प्रकृति स्कोर किस तरीके से अपने अंदर समाए की और इसका किस तरीके से परिणाम बाहर आएगा यह आप कल्पना नहीं कर सकते हैं. हमारी जनरेशन और जींस पर भी इसका असर पड़ रहा है. बेहतर होगा प्लास्टिक से बने तमाम चीजों के निर्माण पर पूरी तरीके से रोक लगाई जाए और इसके ऑप्शन तत्काल डिवेलप कर सरकार लोगों से अपील के जरिए जागरूकता अभियान चलाएं.

छत्तीसगढ़ में प्लास्टिक निर्माण पर 100% रोक, अब फैक्ट्री में नहीं बनेंगी पॉलिथीन

बीजेपी ने इस फैसले का स्वागत किया है, लेकिन उनका कहना है कि सरकार एक तरफ प्लास्टिक की बोतल में शराब परोस रही है जो सबसे ज्यादा घातक है. इससे बहुत गंभीर बीमारियां हो रही हैं और दूसरी तरफ प्लास्टिक बैन करने को लेकर केवल अधिसूचना जारी की जा रही है. जो नाकाफी सरकार को इस पूरे फैसले को कड़ाई से लागू कर अपने उन तमाम चीजों और व्यवस्थाओं पर लागू करना होगा जिससे पर्यावरण और लोगों के स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा.