CG: रिटायर्ड सुपरवाइजर को विभाग ने दी ऐसी विदाई, समारोह देख भर आईं लोगों की आखें

विदाई समारोह को यादगार बनाने में विभाग कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता था, यही कारण है कि यदू की विदाई के लिए विभाग ने बैंड, बाजा बुलाए.

CG: रिटायर्ड सुपरवाइजर को विभाग ने दी ऐसी विदाई, समारोह देख भर आईं लोगों की आखें
35 साल के करियर से बेदाग निकले हैं केएस यदू

(बलराम नायक)/गरियाबंदः छत्तीसगढ़ के देवभोग में सोमवार को एक ऐसा नजारा देखने को मिला जिसे देखते ही कई लोग कंफ्यूज हो गए. दरअसल, यहां सोमवार को बैंड-बाजा, बारात, आतिश बाजी और झूमते लोग दिखाई दे रहे थे, जिसे देखकर ऐसा लग रहा था जैसे किसी की शादी की बारात निकल रही हो, लेकिन इसके उलट ये नजारा किसी की शादी की मौज मस्ती का नहीं बल्कि एक स्वास्थ विभाग में पदस्थ कर्मचारी की विदाई सामारोह का था. गरियाबंद जिला के देवभोग सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र में 35 साल तक सेवा देने के बाद सुपरवाजर के एस यदू जब रिटायर्ड हुए तो उनकी विदाई पर हर किसी की आंखे छलक पडी. KS यदू के 35 साल की बेदाग करियर से विभाग के हर कर्मचारी कायल नजर आए. ऐसे में उनकी विदाई समारोह को यादगार बनाने में विभाग कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता था, यही कारण है कि यदू की विदाई के लिए विभाग ने बैंड, बाजा बुलाए.

किसान ने की हेलीकॉप्टर से लाड़ली की विदाई, बेटी बोली- अब कुछ नहीं मांगूंगी पापा

देवभोग में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ने सामुदायिक भवन से बाजे-गाजे के साथ सजी हुई कार के में KS यदू का विदाई समारोह किया. इस दौरान कई लोग उनकी कार के सामने ऐसे नाच रहे थे जैसे कोई बारात जा रही हो. ऐसे में आतिशबाजी के साथ जब युवाओं की टोली निकल रही थी तो लोगों का लगा किसी की बारात निकाली जा रही है, सजे हुए कार में लोग जब दुल्हे के बजाय स्वास्थ विभाग के कर्मचारी के केएस यदू को देखते हैं तो समझ आया कि शादी नहीं विदाई समारोह है. जो उनके सेवानिवृत होने पर निकाली जा रही है.

VIDEO: पुलिस अफसर के तबादले पर साथी कर्मचारी हुए भावुक, दी अनोखी विदाई

इस विदाई समारोह में स्वास्थ विभाग के बीएमओ सुनील भारती के अलावा पांच चिकित्सक भी बाजे की धून में थिरक रहे थे. जुलूस के बाद सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र में सभा का आयोजन किया गया जहां सहकर्मियों ने यदू के साथ बिताये कार्य काल को याद किया और उन्हें शुभकामनाएं दीं. वहीं बीएमओ सुनील भारती ने कहा कि प्रशासकीय सेवा काजल की कोठरी से कम नही होता, इस काजल की कोठरी से यदू जी अपने 35 साल के करियर से बेदाग निकले है.इससे बडा उपलब्धि हो नही सकता, समर्पित होकर सेवा करने बाले कर्मचारी की विदाई यादगार बनाना चाहिए.