'ढाई-ढाई साल के CM' की चर्चा के बीच आया सिंहदेव का भाषण, 'पूरी हुई मन्नत तो 101 बकरों की भेंट'

छत्तीसगढ़ के कै​बिनेट मंत्री टीएस सिंहदेव के एक वायरल वीडियो ने ढाई-ढाई साल सीएम फार्मूले को एक बार फिर हवा दे दी है. इसमें सिंहदेव मन्नत की बात करते हुए सुने जा रहे हैं. कहते हैं कि अगर उनकी मन्नत पूरी हुई तो वह सुरजपुर के खोपा देवता को 101 बकरों की भेंट चढ़ाएंगे. 

'ढाई-ढाई साल के CM' की चर्चा के बीच आया सिंहदेव का भाषण, 'पूरी हुई मन्नत तो 101 बकरों की भेंट'
छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य, पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव.
Play

सूरजपुर: छत्तीसगढ़ में ढाई-ढाई साल सीएम फार्मूले पर चर्चाओं का बाजार गर्म है. इस बीच कै​बिनेट मंत्री टीएस सिंहदेव के एक वायरल वीडियो ने इस मुद्दे को और हवा दे दी है. इस वायरल वीडियो में सिंहदेव मन्नत की बात करते हुए सुने जा रहे हैं. कहते हैं कि अगर उनकी मन्नत पूरी हुई तो वह सुरजपुर के खोपा देवता को 101 बकरों की भेंट चढ़ाएंगे. 

दरअसल, छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य, पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव जिला स्तरीय फुटबॉल प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण समारोह में शामिल होने बीते शनिवार को सूरजपुर गए थे. यहां उन्होंने खोपाधाम में स्थानीय लोकदेवता की पूजा-अर्चना की. इस दौरान गांव के सरपंच और लोकदेवता के बैगा ने उनसे मन्नत मांगने के लिए कहा. टीएस सिंहदेव ने हाथ जोड़कर अपने मन में मन्नत भी मांगी.

ढाई-ढाई साल के फार्मूले को लेकर CM भूपेश बघेल का बड़ा बयान- आलाकमान कहे तो अभी इस्तीफा दे दूंगा..

मन्नत पूरी हो गई तो 101 बकरे चढ़ाने पड़ेंगे: टीएस सिंहदेव
इसके बाद खोपाधाम में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए टीएस सिंहदेव ने कहा, ''मैं ऐसी मनौती जल्दी नहीं मानता. खासकर अपने लिए. लेकिन आज 101 बकरे की बात कहकर गया हूं. अगर मन्नत पूरी हो गई तो 101 बकरे चढ़ाने पड़ेंगे.'' टीएस सिंहदेव ने खोपा देवता से कौन सी ऐसी मन्नत मांगी, जिसके लिए उन्हें 101 बकरे भेंट करने होंगे, यह तो उनके मन में ही है. लेकिन राजनीतिक हलके में चर्चा होने लगी है कि क्या सिंहदेव की मन्नत ढाई-ढाई साल फार्मूले को लागू करने को लेकर थी?

क्या है ढाई-ढाई साल फार्मला और क्यों उठी है इसकी चर्चा?
दरअसल, छत्तीसगढ़ के 2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत में टीएस सिंहदेव की अहम भूमिका रही थी. नेता प्रतिपक्ष रहते हुए उन्होंने पूरे प्रदेश में यात्राएं कर पार्टी के लिए जमीन तैयार की. उनकी इस मेहनत का असर चुनाव परिणाम में भी दिखा. उन्हें सीएम पद का दावेदार भी माना जा रहा था. लेकिन पार्टी ने उस वक्त कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रहे भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाया. सूत्रों की मानें तो टीएस सिंहदेव राज्य सरकार में वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी चाहते थे. लेकिन उन्हें स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया.

अपराधियों को शिवराज की चेतावनी, ''MP छोड़ दो, वरना मामा तुम्हें धूल में मिला देगा, मसल देगा''

इसके बाद उनकी नाराजगी की खबरें समय-समय पर आती रहीं और आती रहती हैं. टीएस सिंहदेव ने बिलासपुर में एक बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था की मुख्यमंत्री का पद या किसी का कार्यकाल फिक्स नहीं होता है. हमने 2 दिन का भी मुख्यमंत्री देखा है और 15 साल तक का भी. यह सब समय और परिस्थिति के हिसाब से आलाकमान तय करता है. उनके इस बयान से छत्तीसगढ़ की सियासत में ढाई-ढाई साल के सीएम फार्मूले की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया. भूपेश बघेल से जब इस बारे में टिप्पणी मांगी गई तो उन्होंने कहा था, ''आलाकमान जब चाहे मैं इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं.''

WATCH LIVE TV