close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: बुजुर्ग महिला के लिए कलेक्टर ने छोड़ी कुर्सी, किया ऐसा काम लोग कर रहे तारीफ

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में कलेक्ट्रेट ने जन सुनवाई के दौरान कुछ ऐसा किया कि वहां खड़े सभी लोग भौचक्के रह गए और कलेक्ट्रेट के इस कार्य की प्रशंसा करने लगे.  

MP: बुजुर्ग महिला के लिए कलेक्टर ने छोड़ी कुर्सी, किया ऐसा काम लोग कर रहे तारीफ
एडीएम राजेश शाही (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: लाल बत्ती गाड़ी में घूमना, सरकारी ताम-झाम और रुतबा शहर के आला अधिकारियों की आदत में होता है, लेकिन इनमें से ही कुछ अधिकारी ऐसे भी होते हैं जो अपनी जिम्मेदारियों से ज्यादा इंसानियत को तवज्जो देते हैं. वो जितनी जिम्मेदारी से अपनी नौकरी करते हैं उतनी ही जिम्मेदारियों से अपने जिले के हर व्यक्ति का ध्यान भी रखते हैं, और ऐसा करते हुए वो लोग कई बार अपनी सीमाओं को भी तोड़ देते हैं. ऐसा ही एक मामला मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से सामने आया है, जहां कलेक्ट्रेट ने जन सुनवाई के दौरान कुछ ऐसा किया कि वहां खड़े सभी लोग भौचक्के रह गए और कलेक्ट्रेट के इस कार्य की प्रशंसा करने लगे.  

दरअसल यह पूरा मामला अमरवाड़ा का है, जहां पर एक बुजुर्ग महिला कलेक्ट्रेट जन सुनवाई के दौरान बहुत देर से जमीन पर बैठकर अपनी बारी का इंतजार कर रही थी. दृष्टिबाधित होने की वजह से वो लाइन में नहीं लग सकती थी. हालांकि उसके साथ उसका बेटा भी था लेकिन वो भी दिव्यांग होने के चलते लाचार था, इसलिए वो दोनों नीचे ही बैठकर अपनी बारी का इंतज़ार कर रहे थे. इसी बीच जन सुनवाई कर रहे एडीएम राजेश शाही की नजर उन पर पड़ी और दोनों की हालत देखकर राजेश शाही ने अपनी सीट छोड़ी और उनकी समस्या का समाधान करने उनके पास जा पहुंचे. हैरानी की बात तो यह है की एडीएम साहब इस बुजुर्ग महिला से बात करने खुद ही जमीन पर बैठ गए. 

ग्वालियर: शताब्दी एक्सप्रेस के खाने में निकला कीड़ा, यात्री ने की IRCTC से कंप्लेन

पेंशन की समस्या का किया समाधान
एडीएम साहब ने बड़े ही ध्यान से बुजुर्ग महिला की बात सुनी. बुजुर्ग महिला की शिकायत थी कि उनकी पेंशन लंबे वक्त से नहीं बढ़ी है, तो एडीएम साहब ने उन्हें बताया कि जिला अस्पताल में जाकर वो सर्टिफिकेट बनवा लें, तो उनकी पेंशन बढ़ जाएगी. इसके बाद बुजुर्ग महिला ने यह  भी बताया कि उसके दिव्यांग बेटे की पेंशन भी 2016 के बाद से आनी बंद हो गई है. एडीएम ने तुरंत कार्रवाई करते हुए अमरवाड़ा के सीईओ को फोन किया और पूरी जानकारी लेकर तुरंत पेंशन शुरू करने के आदेश दिए. एडीएम राजेश शाही के इस कार्य की सभी लोग खुले दिल से तारीफ कर रहे हैं. सच में अगर हर जिले में ऐसा एक भी अधिकारी हो तो लोगों को परेशानियों का सामना करना ही नहीं पड़ेगा.