close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IT की रेड पर बोले CM कमलनाथ के मंत्री, 'यह लोगों के मन में भय पैदा करने की कोशिश है'

''इतना लंबा समय पड़ा था उस समय भी कार्रवाई कर सकते थे और अगर छापा डालना ही था तो दो-चार भारतीय जनता पार्टी के लोगों के यहा छापे डाल दो, वहां कोई कमी है क्या?''

IT की रेड पर बोले CM कमलनाथ के मंत्री, 'यह लोगों के मन में भय पैदा करने की कोशिश है'
प्रदेश के वाणिज्यकर मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर (फोटो साभारः Facebook)
Play

भोपालः मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निजी सचिव प्रवीण कक्कड़ और उनसे जुड़े अन्य लोगों पर इनकम टैक्स की जारी कार्यवाही के संबंध में प्रदेश के वाणिज्यकर मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर ने कहा कि ''आने वाले समय में चुनाव होने वाला है, ऐसे में लोकसभा की तैयारियों पर सारे लोग जुटे हुए हैं. ऐसे में इस तरह के जब छापे पड़ते हैं तो आम जन के मन में यह बात आती है कि कहीं न कहीं ये दवाने का प्रयास हो रहा है. लोगों में भय पैदा करने का प्रयास हो रहा है, ताकि लोग कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़के कोई काम नहीं कर सकें.'' उन्होंने आगे कहा कि ''इतना लंबा समय पड़ा था उस समय भी कार्रवाई कर सकते थे और अगर छापा डालना ही था तो दो-चार भारतीय जनता पार्टी के लोगों के यहा छापे डाल दो, वहां कोई कमी है क्या?''

भोपाल: छापेमारी पर बोले कमलनाथ- विरोधियों के खिलाफ ऐसे ही हथकंडे अपनाती है BJP

जब उनसे पूछा गया कि क्या यह कार्रवाई बदले की भावना से की जा रही है तो उन्होंने जबाब में कहा कि लोगों का तो यही कहना है. मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर ने यह बात टीकमगढ़ में आयोजित कांग्रेस के कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कही. बता दें आयकर विभाग ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी सहयोगियों और अन्य के खिलाफ दिल्ली और मध्य प्रदेश समेत 52 ठिकानों पर रविवार तड़के छापेमारी की थी, जो की अभी भी जारी है. अधिकारियों ने यह छापेमारी कर चोरी और हवाला लेन-देन के आरोपों में की है.

32 घंटे से जारी है कमलनाथ के करीबियों के घर IT की रेड, 50 ठिकानों पर 300 अफसर कर रहे छानबीन

उन्होंने बताया कि आयकर विभाग के करीब 200 अधिकारियों की टीम ने रविवार तड़के तीन बजे इन परिसरों पर छापेमारी शुरू की और 10 से 14 करोड़ रुपये की बेहिसाबी नकदी बरामद की. सूत्रों ने बताया कि पूरी आशंका है कि इस नकदी का दिल्ली और मध्य प्रदेश में राजनीतिक अभियानों के दौरान वित्तपोषण और मतदाताओं को रिश्वत देने जैसे चुनावी प्रलोभन में इस्तेमाल किया जाना था. छापेमारी की प्रारंभिक रिपोर्ट दिल्ली में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड और चुनाव आयोग के साथ साझा की गई है.

IT की छापेमारी पर शिवराज सिंह चौहान बोले, 'कमलनाथ क्यों रोकना चाहते हैं कार्रवाई'

सूत्रों ने बताया कि तलाश अभियान दिल्ली की जांच शाखा और भोपाल एवं रायपुर की उसकी इकाइयों की मदद से चलाया जा रहा है. अधिकारियों ने राज्य में प्रवेश के लिए बसों, ऑटोरिक्शा और टैक्सी का इस्तेमाल किया ताकि किसी को भी इसकी भनक न लगे. उन्होंने बताया कि यह छापेमारी मौजूदा चुनावी सीजन में संदिग्ध हवाला धन की संदिग्ध आवाजाही और कर चोरी के मामले में की गई है. आयकर अधिकारियों ने इंदौर, भोपाल, गोवा और दिल्ली (ग्रीन पार्क) में छापेमारी की. जिन लोगों पर छापेमारी की गई, उनमें कमलनाथ के पूर्व ओएसडी प्रवीण कक्कड़, पूर्व सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और उनके रिश्तेदार की कंपनी मोजर बेयर तथा उनके भांजे रातुल पुरी की कंपनी से जुड़े अधिकारी शामिल हैं. (इनपुटः भाषा से भी)