Corona वैक्सीन के विरोध पर सीएम शिवराज ने जतायी हैरानी, बोले- कमाल है भाई

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि 'वह टीका (कोरोना वैक्सीन) नहीं लगवा रहे हैं. मैं बीजेपी की वैक्सीन पर कैसे भरोसा कर सकता हूं? जब हमारी सरकार बनेगी तो सभी को फ्री में टीका लगेगा. हम बीजेपी की वैक्सीन नहीं लगवा सकते'.  

Corona वैक्सीन के विरोध पर सीएम शिवराज ने जतायी हैरानी, बोले- कमाल है भाई
सीएम शिवराज सिंह चौहान. (फाइल फोटो)

भोपालः सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बयान के बाद से कोरोना वायरस के टीके को लेकर राजनीति शुरू हो गई है. अब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसे लेकर हैरानी जतायी है. शिवराज सिंह चौहान ने इसे लेकर एक ट्वीट किया और लिखा कि "टीके में भी राजनीति?? हे ईश्वर! कमाल है भाई, भाजपा पर टीका-टिप्पणी करते-करते इतने भ्रमित हो गए कि उनके लिए अब कोविड का टीका भी भाजपा का हो गया! अब कोई इस पर क्या टिप्पणी करे! ऐसी बातें कर लाखों लोगों को भ्रमित कर उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करना अच्छी बात नहीं". 

अखिलेश यादव ने कोरोना वैक्सीन को लेकर उठाए थे सवाल
बता दें कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि 'वह टीका (कोरोना वैक्सीन) नहीं लगवा रहे हैं. मैं बीजेपी की वैक्सीन पर कैसे भरोसा कर सकता हूं? जब हमारी सरकार बनेगी तो सभी को फ्री में टीका लगेगा. हम बीजेपी की वैक्सीन नहीं लगवा सकते'.  

अखिलेश यादव के बयान के बाद सपा के एक एमएलसी ने भी कोरोना वैक्सीन को लेकर सवाल उठाए और यहां तक कह दिया कि कोरोना वैक्सीन से लोगों में नपुंसकता आ सकती है. इनके अलावा कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने भी अखिलेश यादव की बात का समर्थन किया. 

शशि थरूर-जयराम रमेश ने स्वदेशी Covaxin पर उठाए सवाल, डॉ. हर्षवर्धन ने यूं बंद की बोलती

इनके अलावा कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेता शशि थरूर और जयराम रमेश ने भी भारत में बनायी जा रही कोवैक्सीन को लेकर सवाल खड़े किए. शशि थरूर ने ट्वीट कर लिखा कि कोवैक्सीन का अभी तक तीसरे चरण का ट्रायल नहीं हुआ है. समय से पहले अप्रूवल देना खतरनाक हो सकता है. ऐसी ही बात जयराम रमेश ने भी कही. 

उल्लेखनीय है कि ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने 'कोविशील्ड' और कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है. बता दें कि कोविशील्ड वैक्सीन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित की गई है, जिसका निर्माण भारत में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा किया जा रहा है. वहीं कोवैक्सीन का निर्माण भारतीय कंपनी भारत बायोटेक द्वारा किया गया है.

पत्थरबाजों पर सख्त शिवराज सरकार, CM बोले- कानून बनाकर कुर्क करेंगे दोषियों की संपत्ति

WATCH LIVE TV