नर्मदा के तटों पर पहरा देगी कंप्यूटर बाबा की टोली, रेत के अवैध खनन पर रखेगी निगरानी

अवैध रेत खनन रोकने के लिए बाबा के साथ साधु-संतों की टोली भी मौजूद रहेगी.

नर्मदा के तटों पर पहरा देगी कंप्यूटर बाबा की टोली, रेत के अवैध खनन पर रखेगी निगरानी
(फाइल फोटो)

भोपाल: नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा (Computer Baba) मध्य प्रदेश में नर्मदा, क्षिप्रा और मंदाकिनी नदी न्यास के अध्यक्ष का पदभार संभालने के बाद से चर्चा में बने हुए हैं. बाबा आज से टोली के साथ सीहोर जिले की नसरुललागंज तहसील के नर्मदा नदी तटों पर पहरा देंगे. अवैध रेत खनन रोकने के लिए बाबा के साथ साधु-संतों की टोली भी मौजूद रहेगी.

इस दौरान कंप्यूटर बाबा नर्मदा स्वच्छता का संदेश देंगे और नदी के किनारे पौधारोपण करेंगे. बाबा का कहना है कि अवैध खनन रोकने नर्मदा युवा सेना का गठन भी किया जाएगा. इससे अवैध उत्खनन पर निगरानी रखी जा सकेगी.

दरअसल, कंप्यूटर बाबा ने अपने एक बयान में कहा था कि बाबाओं की टोली रेत का अवैध खनन रोकने के लिए खदानों में डेरा डालेगी. पूरे राज्य के लिए चार टोलियां बनाई जाएंगी. एक टोली में 250 से लेकर 300 बाबा होंगे, जो किसी बिना रोक-टोक के सीधे खदानों में दबिश देंगे.

बाबा ने राज्य की कमलनाथ सरकार से हेलीकॉटर की मांग कर डाली है. बाबा का कहना है कि नर्मदा नदी के हालात का जायजा लेने के लिए राज्य सरकार उन्हें हेलीकॉप्टर मुहैया कराए.

नर्मदा नदी इन दिनों अवैध खनन और अतिक्रमण को लेकर चर्चा में है. पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में कंप्यूटर बाबा ने नर्मदा के अवैध खनन को लेकर शिवराज सिंह चौहान पर जमकर हमला बोला था.  

कंप्यूटर बाबा ने कहा, "मैं वादा करता हूं कि पांच साल में कमलनाथ सरकार में नर्मदा नदी, मंदाकिनी और क्षिप्रा नदी कलकल बहेंगी. हमें हवाई सर्वेक्षण करना होगा. हमें जल्दी काम करना है, इसलिए हेलीकॉप्टर चाहिए. कहां गंदा पानी नर्मदा में मिल रहा है, देखेंगे."

गौरतलब है कि कंप्यूटर बाबा ने लोकसभा चुनाव के दौरान दिग्विजय सिंह की जीत के लिए हठ योग किया था और उसके बाद साधु-संतों के साथ रोड शो भी किया था. इस पर चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी किया था.