भूपेश सरकार का एक साल पूरा, खास बातचीत में कुपोषण को बताया नक्सलवाद से बड़ी समस्या

सीएम ने कहा कि प्रदेश में 100 में से 37 बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. शरीर में खून और आयरन की कमी है. नक्सलवाद से बड़ी समस्या कुपोषण है.

भूपेश सरकार का एक साल पूरा, खास बातचीत में कुपोषण को बताया नक्सलवाद से बड़ी समस्या
सीएम ने कहा कि, एक साल में उनके दिन चर्या में कोई VIP कल्चर नहीं आया है.

रायपुर: छत्तीसगढ़ सरकार (Chhattisgarh Government) के एक साल पूरे होने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने जी मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ (ZeeMPCG) से खास बातचीत की. इस दौरान उन्होंने कई सवालों के बेबाकी से जवाब दिए. साथ ही प्रदेश के विकास के लिए अपना विजन भी बताया. ZeeMPCG को दिए EXCLUSIVE इंटरव्यू में मुख्यमंत्री ने कहा कि 18 साल में जनता की अपेक्षाएं पूरी नहीं हुई थी. उनकी सरकार पुरखों के सपनों को पूरा करने के लिए बड़े फैसले ले रही है.

कुपोषण पर सरकार ने कितना फोकस किया?

सीएम ने एक साल में कुपोषण को बड़ी समस्या बताया. सीएम ने कहा कि प्रदेश में 100 में से 37 बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. शरीर में खून और आयरन की कमी है. नक्सलवाद से बड़ी समस्या कुपोषण है. कुपोषण से लड़कर उनकी सरकार सबल छत्तीसगढ़ बनाने की कोशिश कर रही है. सीएम बघेल ने बताया कि डीएमएफ की राशि को भी कुपोषण में लगाया जा रहा है. पहले एक व्यक्ति पर 7 रूपए खर्च होता था, लेकिन, अब इसे बढ़ाकर 25 रूपए कर दिया गया है.

बस्तर में स्वास्थ्य के हालात पर सीएम ने कहा कि पहले बस्तर में डॉक्टर जाने को तैयार नहीं थे. लेकिन, आज हालात बदले हैं. बस्तर संभाग मुख्यालय होने के बाद भी वहां 25 डॉक्टर हैं. जबकि, बीजापुर जिले में आज 26 डॉक्टर सेवा दे रहे हैं. मुख्यमंत्री हाट बाजार योजना का असर है कि इस साल बस्तर से उल्टी दस्त की शिकायत नहीं आई.

नरवा, गरूवा, घुरूवा, बाड़ी से रोजगार कैसे बढ़ेगा ?

खास बातचीत में सीएम ने नरवा गरूवा घुरूवा बाड़ी को लेकर कहा कि, एक साल में लोग इस स्कीम को समझ गए. लोगों को लगा कि, योजना हमारे लिए है. सीएम बघेल ने कहा कि 'नरवा गरूवा घुरूवा बाड़ी' केवल नारा नहीं है. ये जीवन का यथार्थ है. सरकार गौठान बनाएगी, लेकिन इसका संचालन, गाय के लिए चारे की व्यवस्था गांव को ही करनी होगी. गांव के लोगों को गौठान के माध्यम से रोजगार मिलेगा. कई गांव में महिला स्व सहायता समूह इसके जरिए कमाई भी कर रहे हैं. सीएम ने विश्वास जताया कि गाय को संरक्षित करने से दुर्घटना कम होगी, यह देश के सामने एक उदाहरण बनेगा.

छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार पर लगाम कैसे लगाई ?

सीएम बघेल ने एक साल में भ्रष्टाचार पर रोक लगाने का भी दावा किया. सीएम ने कहा कि, खर्चे में कटौती करके भ्रष्टाचार रोका गया है. सीएम बघेल ने इस दौरान पूर्ववर्ती सरकार पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि पिछली सरकार में योजना से पहले ही कमीशन सेट हो जाता था. उनकी सरकार डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर मोड पर काम कर रही है. यानी सीधे किसानों को तेंदुपत्ता संग्राहकों के खाते में पैसे दिए जा रहे हैं. ताकि लोग अपनी पसंद से फोन और चप्पल खरीद सकें.

किसानों को कब मिलेगा बढ़ा हुआ समर्थन मूल्य ?

छत्तीसगढ़ में धान की कीमत 2500 रूपए दिए जाने को लेकर सीएम बघेल ने कहा कि, पहले भी बोनस तत्काल नहीं मिलता था. पिछली सरकारें भी बोनस कभी दिवाली में तो कभी सावन में देती रही हैं. आज विपक्ष को इतनी हड़बड़ी क्यों है. हमने अनुपूरक बजट में ही किसानों के बोनस का बजट रखा है. केंद्र अनुमति देगी तो तत्काल बोनस देना शुरू करेंगे. राज्य अपने संसाधनों से किसानों को 625 रूपए बोनस देना चाहती है. 

किसानों के मुद्दे पर सीएम बघेल ने केंद्र सरकार पर भी निशाना साधा, उन्होंने कहा कि केंद्र किसान हितैषी सरकार नहीं है. सीएम बघेल ने विपक्षी पार्टी बीजेपी को नसीहत दी कि उसे केंद्र से पूछना चाहिए कि, 2 साल जब केंद्र ने बोनस देने की अनुमति दी तो अब क्यों नहीं दी जा रही है. विपक्ष यदि किसान हितैषी नहीं हैं तो केंद्र से सवाल न पूछे.

धान खरीदी में आ रही दिक्कतों को लेकर सीएम बघेल ने कहा कि, समय ​बीतने पर लोग समस्याएं भूल जाते हैं. पहले भी बारदाने और जगह की समस्या होती थी. इस साल वे नियम बनाकर स्थिति सुधारना चाहते थे, लेकिन विपक्ष ने अफवाह फैलाकर किसानों को भड़का दिया. इसकी वजह से नियमों में बदलाव करना पड़ा. आम किसान को कांग्रेस पर भरोसा है. अंतर की राशि सरकार देकर रहेगी.

किसानों की आय सुधारने और रोजगार के लिए सरकार क्या कर रही है ?

किसानों की आय सुधारने और रोजगार पर सीएम ने कहा कि, मक्का प्रोसेसिंग प्लांट तिखुर प्रसंस्करण केंद्र कई ब्लॉक में शुरू किया गया है. वनोपज में वैल्यू एडिशन किया जा रहा है. आम जिंदगी में परिवर्तन की शुरूआत हो गई है. सरगुजा के जवाफूल चावल की पैकेजिंग के जरिए आमदनी बढ़ाई गई. सेलर बायर समिट से किसानों को खरीददार मिल रहे हैं.

सीएम ने कहा कि, राज्य निर्माण के दौरान सिंचाई की क्षमता सवा 13 लाख थी. जबकि अब सिंचाई क्षमता 20 लाख है. 15 साल में केवल 5 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षमता बढ़ी. वास्तविक सिंचाई 11 लाख हेक्टेयर में हो रही है. आंकड़ों के अनुसार सिंचाई नहीं हो रही है, सिंचाई कागजों में होती आई है. मेंटेनेंस के नाम पर पैसे की बंदरबाट होती थी. सिंचाई में सुधार करना पड़ेगा तब जाकर किसानों के सिंचित रकबे में बढ़ोत्तरी होगी.

सीएम बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में किसानों के प्रोडक्ट का वैल्यू एडिशन जरूरी है. कोदो, अलसी, दलहन तिलहन, फल सब्जी की कीमत किसानों को मिले. सीएम ने बताया कि रायपुर में देश का चौथा बड़ा जेम ज्वैलरी पार्क बना रहे हैं. छत्तीसगढ़ में किसानों को 2500 मिलता है. अन्य राज्य के किसान छग आकर मिठाई बांट रहे हैं. अन्य राज्यों के किसानों को छग आकर्षित कर रहे हैं. सीएम ने कहा कि उद्योग नहीं लगने पर जमीन किसान को लौटाई गई. यह दूसरे राज्यों के लिए नजीर बन रहा है.

सीएम ने आने वाले 4 साल के लिए कहा कि, छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था सुधारने पर फोकस रहेगा. किसानों को धान की कीमत मिले ये उद्देश्य है. धान से बायो​फ्यूल बनाने की केंद्र से अनुमति का इंतजार कर रहे हैं. 2019 उद्योग नीति में धान से बायोफ्यूल बनाने पर विचार हो रहा है.

मत्रिमंडल के कामकाज को आप कैसे देखते हैं ?

सीएम बघेल ने मंत्रिमंडल के कामकाज पर संतुष्टि जताई. सीएम ने कहा कि, सभी मंत्रियों का सहयोग मिल रहा है. उन्होंने 12 माह में 26 कैबिनेट की मीटिंग बुलाकर, घंटो तक विषयों पर चर्चा की है.

सीएम ने अधिकारियों के तबादले को जरूरी बताया सीएम ने कहा कि, अधिकारी यदि समय से काम नहीं करेंगे तो बदलना पड़ेगा. हमें अधिकारियों से काम लेने से मतलब है, काम नहीं करेंगे तो उनकी जगह किसी और को अवसर दिया जाएगा. तबादला अधिकारियों को लिए सजा नहीं है.

शहर सरकार को लेकर सीएम ने कहा कि, जनता निकाय चुनाव का फैसला करेगी. पहले वे प्रत्यक्ष महापौर का चुनाव कराने के पक्ष में थे. वार्ड कार्यालय योजना के उद्घाटन से जो फीडबैक लिया इसके बाद अप्रत्यक्ष चुनाव का फैसला लिया गया. सीएम ने कहा कि, वार्ड पार्षद समस्याओं को बेहतर तरीके से समझते हैं.

सीएम ने राम के नाम पर कहा, राम हमारे छत्तीसगढ़ के भांचा हैं. राम हमारी संस्कृति का हिस्सा हैं. धान का पहला हिस्सा हम राम को देते हैं. श्री राम छत्तीसगढ़ से होकर गुजरे, कौशल्या माता छत्तीसगढ़ की रहने वाली हैं. शबरी माता छत्तीसगढ़ की हैं. राम के गुजरे हुए मार्ग राम वनगमन मार्ग पर कार्ययोजना बना रहे हैं. कौशल्या माता का भव्य मंदिर छत्तीसगढ़ में बनाया जाएगा.

छत्तीसगढ़िया अस्मिता पर फोकस कैसे किया?

छत्तीसगढ़ी अस्मिता और छत्तीसगढ़ियों के सवाल पर सीएम ने कहा कि, छत्तीसगढ़ में रहने वाले 2 करोड़ 80 लाख लोग छत्तीसगढ़िया हैं. यहां की मिट्टी से प्रेम करने वाले, राज्य के विकास में अपना योगादान देने वाले, चाहे किसी भी राज्य से आकर छत्तीसगढ़ में बसें हों वे सभी छत्तीसगढ़िया हैं. हर धर्म, संप्रदाय, जाति के लोगों के मन में छत्तीसगढ़ के प्रति प्रेम है.

सीएम बनने के बाद आपका जीवन कितना बदला ?

सीएम ने कहा कि, एक साल में उनके दिन चर्या में कोई VIP कल्चर नहीं आया है. लोग उन्हें पहले भी भूपेश भईया कहते थे, अब भी लोग उन्हें सीएम सर या साहब कहने की बजाय भईया ही कह रहे हैं. ये उन्हें अच्छा लगता है. इसके पीछे कारण है कि, वे लगातार लोगों से मुलाकात करते हुए लोगों के बीच रह रहे हें.

CM ने कहा कि, पीएम मोदी से कोई व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है. किसान और आदिवासियों के हित में कहना पड़ेगा. आदिवासियों को नक्सल बताकर मारेंगे तो बोलना पड़ेगा. यही काम वे कर रहे हैं.

CAB को लेकर सीएम बघेल ने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह नागरिक संशोधन बिल के बाद एनआरसी लाने की बात कह रहे हैं. 6 साल में असम में जो हुआ, वहां आग लगी है. सीएम बघेल ने पूछा कि क्या अमित शाह यहां भी आग लगाना चाहते हैं. बहुत से लोग दूसरे प्रदेशों से आए हुए हैं. ये सरकार आग लगाने का काम क्यों कर रही है.