CM शिवराज की अफसरों को दो टूक, ''अपराधियों को दफन करना है, दंड ही इनका एक मात्र उपाय''

मुख्यमंत्री ने इस बैठक में अधिकारियों को स्पष्ट शब्दों में निर्देश दिए कि गुंडों, बदमाशों और रसूखदारों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. सीएम के साथ इस बैठक में शामिल होने के लि​ए डीजीपी, प्रमुख सचिव और भोपाल डीआईजी, नगर निगम कमिश्नर व कलेक्टर को तलब किया गया गया था.

CM शिवराज की अफसरों को दो टूक, ''अपराधियों को दफन करना है, दंड ही इनका एक मात्र उपाय''
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए.

भोपाल: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को भोपाल में पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई. मुख्यमंत्री ने इस बैठक में अधिकारियों को स्पष्ट शब्दों में निर्देश दिए कि गुंडों, बदमाशों और रसूखदारों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. सीएम के साथ इस बैठक में शामिल होने के लि​ए डीजीपी, प्रमुख सचिव और भोपाल डीआईजी, नगर निगम कमिश्नर व कलेक्टर को तलब किया गया गया था.

फिल्म 'शेरनी' के डायरेक्टर ने मंत्री द्वारा शूटिंग रुकवाने की बात को किया खारिज, जानें क्या कहा

 

मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा कि मध्य प्रदेश में गुंडों, बदमाशों और अपराधियों को दफन करना है. इनके खिलाफ दंड ही एकमात्र उपाय है. इसलिए ऐसे तत्वों के विरुद्ध कार्रवाई चलती रहनी चाहिए. शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ''एक तो सीधे सुशासन का कार्य करना है. जहां गड़बड़ी की संभावना हो, वहां बिना देरी किए समय पर कार्रवाई हो. उदाहरण बनना चाहिए. भोपाल को एक मॉडल राजधानी बनाना है.''

उन्होंने कहा, ''यहां मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री, मुख्य सचिव और डीजीपी तक हैं. मध्य प्रदेश का मॉडल भोपाल कैसे बने, आप बैठकर सभी चीजों पर नए सिरे से विचार करें. 10 से 15 दिन में रूप रेखा बनाकर विकास के लिए प्लान तैयार करें. प्रशासन, सुशासन, सुविधाओं और विकास पर काम करना है. मेट्रो के कार्य में तेजी लाना है. धीमी गति से काम नहीं चलेगा. अगर बाधा है, तो उसे दूर करने के उपाय करें. तत्काल सीएमओ को सूचना दें. हम इसे दूर करेंगे.''

सिंधिया सोमवार को पहुंचेंगे भोपाल, CM शिवराज से होगी मुलाकात, चर्चाओं का बाजार गर्म

इस कद्दावर नेता को लेकर कांग्रेस में घमासान, पहले निष्कासन अब नेता प्रतिपक्ष बनाने की मांग

अधिकारियों के साथ बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ईरानी डेरे के बाहर हुई प्रशासनिक कार्रवाई की जानकारी ली. उन्होंने डीजीपी से अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई में तेजी लाने के लिए कहा. उन्होंने कोरोना को लेकर भी अधिकारियों से चर्चा की. इस बैठक के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह शाहगंज रवाना हो गए. आपको बता दें कि कुछ दिन पहले पुलिस एक अभियुक्त को पकड़ने के लिए ईरानी डेरा गई थी. स्थानीय लोगों द्वारा पुलिस पर पथराव कर दिया गया था. इसके बाद प्रशासन ने अवैध ईरानी डेरे को जेसीबी लगाकर ढहा दिया था.

WATCH LIVE TV