पिता ने ही बनाया अनाथ! पहले बच्चों की मां और नानी को मारा और फिर खुद ट्रेन के आगे लगाई छलांग
topStorieshindi

पिता ने ही बनाया अनाथ! पहले बच्चों की मां और नानी को मारा और फिर खुद ट्रेन के आगे लगाई छलांग

खंडवा में मामूली विवाद के कारण दो मासूमों के सिर से मां-बाप का साया छिन गया. जिले के मथेला गांव में तीन दिन पहले आदमी ने अपनी लिव-इन पार्टनर और उसकी मां की हत्या कर खुद को भी खत्म कर लिया.

पिता ने ही बनाया अनाथ! पहले बच्चों की मां और नानी को मारा और फिर खुद ट्रेन के आगे लगाई छलांग

खंडवा: मध्य प्रदेश के खंडवा जिले से एक दिल को झकझोर के रख देने वाला मामला सामने आया है. जहां एक मामूली विवाद के कारण दो मासूमों के सिर से मां-बाप का साया छिन गया. जिले के मथेला गांव में तीन दिन पहले आदमी ने अपनी लिव-इन पार्टनर और उसकी मां की हत्या कर खुद को भी खत्म कर लिया. दैनिक भास्कर पर छपी खबर के अनुसार उसने पहले दोनों को मौत के घाट उतारा और फिर खुद भी ट्रेन के सामने कूद कर खुदकुशी कर ली. 

मृतक के दो छोटे बच्चे हैं, जिनके पास अब परिवार के नाम पर 70 साल की बूढ़ी दादी है, बाल कल्याण समिति ने बच्चों को इंदौर के एक चाइल्ड होम को सौंप दिया है, अब यहीं इन बच्चों की परवरिश की जाएगी.

ये भी पढ़ें-तस्कर ने पुलिसकर्मी की बंदूक से काटा बर्थडे केक, टीआई-कांस्टेबल भी रहे मौजूद, वायरल हो रहा वीडियो

मृतक का नाम राधेश्याम और उसकी पत्नी का नाम कालीबाई है. पुलिस की मानें तो राधेश्याम पेशे से मजदूर था और पूर्व में सरपंच भी रह चुका था. वह कालीबाई के साथ लिव-इन में रह रहा था. सुसाइड से पहले राधेश्याम ने कालीबाई (40) और उसकी  मां शायरा (62) को कुल्हाड़ी से मार डाला और खुद चलती ट्रेन के आगे आकर अपनी जान दे दी. 

फिलहाल चाइल्ड होम में होगी बच्चों की परवरिश
बाल कल्याण समिति के सदस्य ने बताया कि थाना मोघट रोड पुलिस की सूचना पर चाइल्ड लाइन की टीम गांव मथेला पहुंची थी. जहां से दोनों बच्चों को जिला अस्पताल ले जाया गया और उनकी जांच के बाद उन्हें चाइल्ड होम भेजा गया. बाल कल्याण वालों का कहना है कि अगर परिवार वाले कानूनी प्रक्रिया के तहत उनकी परवरिश करने का दावा करते हैं, तो बच्चों को उनके सुपुर्द किया जाएगा.

यह है पूरा मामला
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार राधेश्याम और उसकी प्रेमिका के घर आसपास थे. गुरुवार देर रात करीब 2 बजे राधेश्याम और उसकी पार्टनर कालीबाई के बीच किसी बात पर विवाद हो रहा था. जिसे देख कालीबाई की मां और भाई-भाभी वहां आ गए. जिसके बाद कालीबाई के परिवार वालों और राधेश्याम की झड़प होने लगी. इसी बीच राधेश्याम ने उन सब पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया. जिसमें कालीबाई और शायरा की मौके पर मौत हो गई और अन्य दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. घटना को अंजाम देकर राधेशाम घर से भाग गया और उसने ट्रेन के आगे आकर जान दे दी. 

Watch LIVE TV-

 

 

Trending news