नीमच पुलिस ने किया चोर गैंग का पर्दाफाश, छोटी उम्र में दे चुके थे बड़ी वारदातों को अंजाम

गिरोह में शामिल सबसे अधिक उम्र वाला बदमाश महज 25 साल का है. इस गिरोह में दो नाबालिग भी शामिल हैं. ये कम उम्र में के चोर कई बड़ी वारदात को अंजाम दे चुके हैं. पुलिस ने चोरी में लिप्त दो नाबालिग सहित 5 लोगों को गिरफ्तार किया है.

नीमच पुलिस ने किया चोर गैंग का पर्दाफाश, छोटी उम्र में दे चुके थे बड़ी वारदातों को अंजाम
प्रतीकात्मक तस्वीर

नीमच: नीमच पुलिस ने एक अंतर्राज्यीय डकैत गिरोह का पर्दाफाश किया है. इस गिरोह में शामिल सबसे अधिक उम्र वाला बदमाश महज 25 साल का है. इस गिरोह में दो नाबालिग भी शामिल हैं. ये कम उम्र में के चोर कई बड़ी वारदात को अंजाम दे चुके हैं. पुलिस ने चोरी में लिप्त दो नाबालिग सहित 5 लोगों को गिरफ्तार किया है.

SP मनोज कुमार राय ने इस गिरोह का खुलासा करते हुए बताया कि पुलिस को 22 जुलाई की रात मुखबिर से गिरोह के बारे में सूचना मिली थी. मुखबिर ने बताया था कि ये गिरोह महू-नसीराबाद हाईवे पर केशरपुरा के बायो डीजल पम्प के नजदीक डकैती की योजना बना रहे हैं. जिसके बाद पुलिस ने दबिश दी. जिसमें तीन लोगों को मौके से पकड़ लिया गया. वहीं 2 लोग अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए थे.

ये भी पढ़ें-मध्य प्रदेश पर मंडरा रहा कोरोना का खतरा, एक दिन में सामने आए 632 मरीज, 10 लोगों की मौत

बताया जा रहा है कि पुलिस ने आरोपियों के पास से एक स्विफ्ट कार, एक देसी कट्टा, दो जिंदा कारतूस, एक तलवार और रॉड बरामद की है. पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे अब तक जिले के साथ-साथ देश के कई राज्यों में चोरी की बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुके हैं.

इस गिरोह ने 14 जुलाई को जावद में जिला सहकारी बैंक से 10 लाख की चोरी की थी. मनासा में भी एक व्यक्ति की बाइक की डिक्की से एक लाख 80 हजार उड़ाए थे. पुलिस ने तीनों आरोपी  विक्रम सिसोदिया, बंटी सासी और मनमोहन सासी की निशानदेही पर इनके दो नाबालिक साथियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 10 लाख 60 हजार रुपए बरामद किए हैं.

गौरतलब बात यह है कि इन पांचों आरोपियों में सबसे अधिक उम्र का आरोपी महज 25 वर्ष का है. कम उम्र वाले बदमाशों के इस गिरोह पर दिल्ली की चाणक्यपुरी थाने से लेकर राजस्थान के झालावाड़ बांरा मध्यप्रदेश के नरसिंगपुर के थाने तक करीब दर्जन भर मुकदमे दर्ज हैं.

मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर में भी इन पर मुकदमा दर्ज है. खास बात यह है कि यह गिरोह बैंक लूट या उसमें सेंधमारी करता था. जिसमें नाबालिक सबसे सटीक कार्य करते थे. इसलिए इस गिरोह में वारदात को अंजाम देने का काम नाबालिक आगे रहकर करते थे. पुलिस का कहना है कि पुलिस रिमांड में आरोपियों से पूछताछ के बाद और भी खुलासे हो सकते हैं.

Watch LIVE TV-