close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ठंड से ठिठुरा मध्य प्रदेश, राजधानी भोपाल में 0 डिग्री पहुंचा पारा

प्रदेश के कई हिस्सों में सर्दी और कोहरे के चलते कई ट्रेनें भी अपने निर्धारित समय से काफी लेट चल रही हैं, जिससे यात्रियों की परेशानियां भी बढ़ गई हैं.

ठंड से ठिठुरा मध्य प्रदेश, राजधानी भोपाल में 0 डिग्री पहुंचा पारा
स्ट्रीट लाइट के बावजूद सड़कों पर कुछ दिखाई नहीं दे रहा

भोपालः मध्य प्रदेश में बढ़ती ठंड के चलते लोगों का घर से बाहर निकलना दूभर हो गया है. राजधानी भोपाल में सोमवार की सुबह मौसम का मिजाज अचानक ही बदल गया, जिससे पारा लुढ़ककर सीधे 0 पर पहुंच गया. वहीं शाजापुर में भी आज तापमान में गिरावट के साथ ही घना कोहरा छाया रहा. जिसके चलते सुबह नौ बजे तक हाइवे पर विजिबिलिटी 20 मीटर तक ही थी. विजिबिलिटी न होने के कारण वाहनों की रफ्तार भी थमी रही. शहर में कोहरे का प्रकोप इस कदर छाया है कि स्ट्रीट लाइट के बावजूद सड़कों पर कुछ दिखाई नहीं दे रहा. वहीं प्रदेश के कई हिस्सों में सर्दी और कोहरे के चलते कई ट्रेनें भी अपने निर्धारित समय से काफी लेट चल रही हैं, जिससे यात्रियों की परेशानियां भी बढ़ गई हैं.

दिल्ली-एनसीआर में बढ़ा सर्दी और कोहरे का प्रकोप, विजिबिलिटी 400 मीटर से भी कम

वहीं सर्द हवाओं की वजह से मौसम में ठंडक बनी हुई है जिससे जनजीवन खासा प्रभावित दिखाई दे रहा है. अधिकांश लोग घरों में दुबके हैं, बाजारों में भी सन्नाटा छाया रहा. मौसम विभाग की मानें तो देश के कई हिस्सों में हुई बारिश के चलते कोहरा छाया हुआ है. वहीं अभी दो-तीन दिनों तक ठंड बढ़ने के आसार हैं. वहीं घने कोहरे के बावजूद शाजापुर जिला प्रशासन की लापरवाही एक बार फिर से सामने आई है, जहां पूरे प्रदेश में जहां सरकारी एवं निजी स्कूलों का अवकाश एक दिन पहले ही घोषित कर दिया, लेकिन शाजापुर जिले में अवकाश घोषित न होने से स्कूली बच्चे कड़ाके की सर्दी में सुबह से ठिठुरते हुए स्कूल पहुंच गए.

मौसम अलर्टः दिल्ली में बढ़ा कोहरे का प्रकोप, ट्रैफिक और एयरसर्विस हुई प्रभावित

तब जाकर आज स्कूलों से बच्चों को वापस घर भेजा गया. ठंड से बचने के लिए स्कूल पहुंचे बच्चे अलाव जलाकर ठंड से बचने का प्रयास कर रहे हैं. जिले में कल से घना कोहरा छाया हुआ है, इसके बावजूद शाजापुर जिला प्रशासन ने कल अवकाश घोषित नहीं किया और बच्चे स्कूल पहुंच गए. जिले में 15 दिन से कड़ाके की ठंड है, लेकिन सुबह लगने वाले स्कूलों के समय में भी परिवर्तन नहीं किया गया.