'किसी ने देखा है मेरी बेटी को?', गली-गली पुकार रही मां, ढूंढने वाले को देगी इतने हजार

मां ने गुमशुदा के पोस्टर शहर की गली-गली में लगाने के साथ ही पुलिस कंट्रोल रूम की दीवारों पर भी इन्हें चिपका दिया. 

'किसी ने देखा है मेरी बेटी को?', गली-गली पुकार रही मां, ढूंढने वाले को देगी इतने हजार
रीवा में सरस्वती सिंह 14 दिनों से अपनी बच्ची की तलाश कर रही हैं

रीवाः 'किसी ने देखा है मेरी बेटी को!', ये कहना है एक मां का. खाने को आधार नहीं लेकिन अपनी गुमशुदा बेटी को ढूंढ कर लाने वाले के लिए मां ने 50 हजार रुपए देने की घोषणा कर दी. मध्य प्रदेश के रीवा जिले से दिल को झकझोर देने वाली तस्वीरें सामने आईं. यहां एक मां पिछले 14 दिनों से अपने कलेजे के टुकड़े को ढूंढने के लिए शहर की एक-एक गली में भटक रही है. 

शहर भर में छपवा दिए पोस्टर
रीवा के सिविल लाइन थाना इलाके के गंगा नगर क्षेत्र में सरस्वती सिंह रहती हैं. जिनकी डेढ़ साल की मासूल बच्ची एक मई को घर के बाहर खेलते हुए अचानक लापता हो गई. घटना को बीते 2 सप्ताह से ज्यादा हो गया, लेकिन अभी तक बच्ची का कोई पता नहीं चल सका. अब सरस्वती सिंह खुद ही सड़कों पर बच्ची की तलाश करते हुए गली-गली में गुमशुदगी के पोस्टर लगा रही हैं. 

यह भी पढ़ेंः- MP में Lockdown! इन तीन जिलों में बढ़ा कर्फ्यू, जानें कब तक रहेंगी पाबंदियां

कंट्रोल रूम की दीवारों पर लगाए पोस्टर
बच्ची के लापता होने की शिकायत मां ने पुलिस थाने में भी की, लेकिन इतने दिनों बाद भी कोई सुराग हाथ नहीं लगा. अब तो मां खुद ही रीवा की सड़कों पर पैदल घूम-घूम कर अपनी बच्ची की तलाश कर रही है. उन्होंने गुमशुदा के पोस्टर शहर की गली-गली में लगाने के साथ ही पुलिस कंट्रोल रूम की दीवारों पर भी इन्हें चिपका दिया. 

हैसियत नहीं लेकिन देंगी 50 हजार रुपए
सरस्वती सिंह के घर के हालात कुछ खास अच्छे नहीं है, बावजूद उसके इस मां ने गुमशुदा बेटी को ढूंढ कर लाने वाले को 50 हजार रुपए देने की घोषणा की. मां रोज पुलिस स्टेशन जाकर आला अधिकारियों से मुलाकात करती है, लेकिन अब तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा. थाना प्रभारी का कहना है कि उनकी ओर से प्रयास जारी है, लेकिन जानकारी नहीं मिल सकी. बावजूद उसके यह मां हर दिन शहर में जाकर अपनी बेटी की तलाश करती है. 

यह भी पढ़ेंः-लाल-नीले या किसी और रंग के बजाय हरे रंग के कपड़े से क्यों कवर किया जाता है कंस्ट्रक्शन साइट को?

यह भी पढ़ेंः- एमपी सरकार की तरह ये राज्य सरकार भी उठाएगी अनाथ बच्चों की पढ़ाई का खर्च, साथ ही देगी ये सुविधा

WATCH LIVE TV