अव्यवस्था का आलमः इस मेडिकल कॉलेज की मोर्चरी के फ्रीजर खराब, कई घंटों से रखे शवों के सड़ने की नौबत आई

मेडिकल कॉलेज में बीते 24 घंटे में 24 मरीजों की मौत हुई है. ऊपर से मेडिकल कॉलेज के फ्रीजर खराब हैं, जिससे शवों के सड़ने की नौबत आ गई है. 

अव्यवस्था का आलमः इस मेडिकल कॉलेज की मोर्चरी के फ्रीजर खराब, कई घंटों से रखे शवों के सड़ने की नौबत आई
फाइल फोटो.

सागर/अतुल अग्रवालः कोरोना संक्रमण के चलते हालात बेहद खराब हो गए हैं. स्थिति ये है कि बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में बीते 24 घंटे में 24 मरीजों की मौत हुई है. ऊपर से मेडिकल कॉलेज के फ्रीजर खराब हैं, जिससे शवों के सड़ने की नौबत आ गई है. 

क्या है पूरा मामला
कोरोना संक्रमण के चलते बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में भर्ती मरीजों में 24 की बीते एक दिन में कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है. अव्यवस्था का आलम ये है कि अस्पताल की मोर्चरी में स्थित चारों फ्रीजर खराब पड़े हैं. ऐसे में मोर्चरी में शव ऐसे ही रखे हुए हैं. इससे गर्मी के चलते कई-कई घंटे रखने से शवों के सड़ने का खतरा पैदा हो गया है. मोर्चरी में अव्यवस्थित पड़े शवों की तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. 

वहीं अव्यवस्था और सहयोग ना मिलने से अस्पताल की मोर्चरी के प्रभारी डॉ. शैलेंद्र पटेल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. हालत ये है कि मोर्चरी में अब शव रखने की भी जगह नहीं बची है. वहीं कोरोना रिपोर्ट के इंतजार में कई कोविड अस्पताल के मृतकों की देह को 10 से 20 घण्टे तक रखना पड़ रहा है, यहां शव रखे-रखे डिस्पोज होने तक कि नौबत बन रही है. सोमवार देर रात से दोपहर तक यहां करीब 23 शव पहुंच चुके थे. 

दरअसल डॉ. शैलेंद्र पटेल ने व्यवस्थाओं को सुधारने के लिए उच्च प्रशासनिक अधिकारियों को बार-बार पत्र लिखा लेकिन उनकी मांग पर जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.