Coronavirus से लड़ने और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए शुरु करें ये योगासन

अगर हमारे शरीर में  (Oxygen) का स्तर होता है तो उसका सीधा असर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है. जिससे हम जल्द ही बीमारी की चपेट में आने लगते हैं. 

Coronavirus से लड़ने और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए शुरु करें ये योगासन
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली: Coronavirus के इस दौर में हर कोई खुद को मजबूत बनाने की सोच रहा है.सभी मास्क और सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर खुद का बचाव कर रहे हैंलेकिन बाहरी बचाव के साथ-साथ हमें खुद को अंदर से मजबूत बनाकर इस संक्रमण से लड़ने योग्य बनाना है. इसके लिए जरूरी है योग, जिससे हमारा इम्यून सिस्टम तो बेहतर होगा ही, साथ ही हमारे शरीर के भीतर ऑक्सीजन  (Oxygen) लेवल भी पर्याप्त रहेगा. 

ये भी पढ़ें-खूबसूरत त्वचा चाहिए तो जरूरी हैं ये VITAMINS, जानें क्या खाने से हो जाएगी इनकी पूर्ति

अगर हमारे शरीर में  (Oxygen) का स्तर होता है तो उसका सीधा असर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है. जिससे हम जल्द ही बीमारी की चपेट में आने लगते हैं. इन सब से बचने के लिए आज हम आपको ऐसे योग के बारे में बताएंगे जिससे आपकी इम्यूनिटी तो मजबूत होगी ही साथ ही आपके शरीर में  (Oxygen) का स्तर भी बढ़ेगा. 

पूर्ण भुजा शक्ति विकासक क्रिया योग.इस योग को करने से हमारे शरीर को कई प्रकार के फायदे मिलते हैं. 

कैसे करें ये योग
इस योग को करने के लिए सबसे पहले सावधान मुद्रा में खड़े होना है. इसके बाद दोनों पैरों के पंजों को आपस में मिला लेना है. फिर भुजाओं को सीधा, कंधों को पीछे खींचकर और सीने को तानकर रखना है. इसके बाद दाएं हाथ का अंगूठा भीतर और अंगुलियां बाहर रखते हुए मुट्ठी बांध लें, फिर बाएं हाथ के तलवे को जंघा से सटाकर रखें. सांस भरते हुए दाईं भुजा को कंधों के सामने लाएं.उसके बाद श्वास भरते हुए भुजा को सिर के ऊपर ले जाएं. 

ये भी पढ़ें-रोज खाना शुरू कर दीजिए अखरोट, इन बड़ी समस्याओं से मिलेगी निजात, यहां पढ़ें सेवन करने का तरीका

अब सांस को छोड़ें और दाईं हथेली को कंधों के पीछे से नीचे लेकर जाएं. इस तरह एक चक्र पूरा होगा. अब दाएं हाथ से लगातार 10 बार इसी तरह गोलाकार चलाएं. उसके बाद बाएं हाथ से भी मुट्ठी बनाकर 10 बार गोलाकार चलाएं.

बाद में धीरे-धीरे सांस को सामान्य करें. सांस के सामान्य होने के बाद दोनों हाथों की मुट्ठी बनाकर 10 बार गोलाकार चलाना है. इसे सामने से पीछे की ओर ले जाएं. इस दौरान सांस की एकाग्रता और संतुलन बनाए रखना बेहद जरूरी है. जिस तरह हाथों को एक दिशा में गोलाकार घुमाते हैं, उसी तरह हाथों को उल्टी दिशा में भी गोलाकार घुमाना चाहिए. 

ये भी पढ़ें-मध्यप्रदेश में आज से खुल रहे 10वीं और 12वीं के स्कूल, इन बातों का ख्याल रखना बेहद जरूरी

क्या होंगे फायदे?
 इस अंग संचालन योग को करने से प्राणशक्ति का विकास होगा. जो ऑक्सीजन लेवल बढ़ाता है.
खुलकर गहरी सांस लेने और छोड़ने से फेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ेगी. 
फेफड़े मजबूत होंगे और आप दिनभर चुस्त-दुरुस्त महसूस करेंगे.
भुजाओं की मांसपेशियां मजबूत होंगी और कंधों की जकड़न दूर होती है

Watch LIVE TV-