शराबी पति की हरकतों से परेशान थी महिला, बुला लिए शूटर और फिर...

तलाशी लेने पर तीनों बदमाशों के पास से एक-एक देसी कट्टा और जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं. पुलिस ने तीनों बदमाशों के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर मामले की जांच शुरू कर दी है.

शराबी पति की हरकतों से परेशान थी महिला, बुला लिए शूटर और फिर...
तीनों बदमाशों के पास से एक-एक देसी कट्टा और जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं.

पन्ना: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पन्ना (Panna) में शराबी पति की हरकतों और प्रताड़ना से एक नवविवाहिता इतनी तंग आ गई कि उसने अपने मायके वालों को सूचना देकर शूटर बुला लिए. लेकिन, हथियारबंद बदमाश किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे पाते कि उससे पहले ही, पन्ना कोतवाली थाना पुलिस ने तीनों बदमाशों को धरदबोचा. 

यह घटना पन्ना की सीमा से सटे ग्राम पुरुषोत्तमपुर की है. जहां, बताया जा रहा है कि पुरुषोत्तमपुर निवासी एक ठेकेदार का बेटा अपनी पत्नी को शादी के बाद से ही काफी परेशान कर रहा था. दामाद की हरकतों से नवविवाहिता के परिजन भी वाकिफ थे. इसलिए पति की प्रतड़ना से तंग आ चुकी युवती ने जब अपने मायके में सूचना दी, तो उसका मामा कथित तौर पर दामाद को जान से मारने की नियत से अपने दो दोस्तों को लेकर पुरुषोत्तमपुर आ गया.

मगर तभी कोतवाली थाना पन्ना के निरीक्षक को मुखबिर के जरिए बदमाशों के संबंध में पता चल गया. हथियारबंद बदमाश किसी घटना को अंजाम दे पाते कि उसके पहले ही पुलिस टीम ने घेराबंदी कर तीनों को गिरफ्तार कर लिया. तीनों की पहचान धीरेन्द्र सिंह परमार 29 वर्षीय, वीरू उर्फ दिग्विजय सिंह ठाकुर 25 वर्षीय और राहुल यादव 25 वर्षीय के रूप में हुई है. 

तलाशी लेने पर तीनों बदमाशों के पास से एक-एक देसी कट्टा और जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं. पुलिस ने तीनों बदमाशों के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर मामले की जांच शुरू कर दी है. हालांकि पुलिस अधिकारियों ने अधिकारिक तौर पर इस कहानी की पुष्टि नहीं की है.
दरअसल, पुलिस अधीक्षक पन्ना द्वारा जिले में अवैध हथियारों की धरपकड़ के लिए विशेष अभियान चलाने के लिए सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिये गये थे. इस दौरान रविवार 1 दिसम्बर को मुखबिर से सूचना मिली कि तीन व्यक्ति कट्टा-कारतूस लिए सफ़ेद रंग की मोटरसाइकिल से किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में पहाड़ीखेरा रोड किनारे जनकपुर में निर्माणाधीन रेलवे स्टेशन के पास खड़े हैं. जिसके बाद निरीक्षक हरी सिंह ठाकुर के नेतृत्व में पुलिस की अलग-अलग टीमों ने इलाके की घेराबंदी की और तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया. 
गौरतलब है कि आरोपी धीरेन्द्र सिंह परमार पहले भी आपाराधिक गतिविधियों में शामिल रहा है. उसके विरुद्ध जिले के पुलिस थाना सिमरिया में कई प्रकरण दर्ज हैं. पुलिस थाना सिमरिया के प्रकरण क्रमांक 15/14 धारा 307, 325, 323, 294, 506, 34 ताहि में धीरेन्द्र काफी समय से फरार चल रहा था. एडीजे न्यायालय पवई द्वारा आरोपी के विरुद्ध गैरम्यादी स्थाई वारंट जारी किया गया था. पुलिस अधीक्षक पन्ना ने धीरेन्द्र की गिरफ्तारी पर नकद इनाम भी घोषित किया था. वहीं उसके साथी राहुल यादव कुख्यात अपराधी है. राहुल के विरुद्ध भी थाना कोतवाली पन्ना में पहले से कई धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध हैं.