close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: पुलिस ने नक्सली महिला नेता नर्मदाक्का को उसके पति के साथ किया गिरफ्तार

नर्मदाक्का 1 मई के दिन हुए जांभूलखेडा विस्फोट की सूत्रधार है. गढचिरौली में  जिले में नर्मदाक्का के खिलाफ 65 मामले दर्ज है.

महाराष्ट्र: पुलिस ने नक्सली महिला नेता नर्मदाक्का को उसके पति के साथ किया गिरफ्तार
पुलिस को नर्मदाक्का की पिछले 25 सालों से तलाश थी.

महाराष्ट्र: मुंबई पुलिस ने नक्सली महिला नेता नर्मदाक्का और उनके पति किरण के साथ किया गिरफ्तार किया है. इन दोनों गढ़चिरौली के सिरोंचा बस अड्डे से लिया हिरासत में लिया गया. पुलिस को नर्मदाक्का की पिछले 25 सालों से तलाश थी. बताया जा रहा है कि नर्मदाक्का1 मई के दिन हुए जांभूलखेडा विस्फोट की सूत्रधार है. गढचिरौली में  जिले में नर्मदाक्का के खिलाफ 65 मामले दर्ज है. पति किरण नक्सली आंदोलन के प्रभात मैगझिन का संपादक किया. गढचिरौली कोर्ट ने दंपती को दी 7 दिनों तक पुलिस रिमांड भेज दिया है. इस गिरफ्तारी से महाराष्ट्र मे नक्सली आंदोलन को बडा झटका लगने की बात कही जा रही हैं.

3 राज्यो मे नक्सली आंदोलन का चेहरा रही नर्मदाक्का नामक बडी महिला नक्सली नेता को गडचिरोली पुलिस ने पकड़ा हैं. नक्सली अंदोलन का शीर्ष संगठन 'CPI माओवादी' है. नर्मदाक्का इस पार्टी में एकमात्र महिला सदस्य है. नर्मदाक्का अपने बिमार पति किरण कुमार के साथ हैदराबाद के एक अस्पताल मे होने की जानकारी गढचिरौली पुलिस को मिली थी. इसी बीच यह दोनो गढचिरौली के सिरोंचा बस अड्डे पर पहुचने की जानकारी पुख्ता हुई तेलंगाना पुलिस के साथ मिलकर एक योजना के तहत दोनों को हिरासत में लिया गया. पिछले 24 घंटे इन दोनो से प्रारंभिक पुछताछ की गयी. 2012 में नर्मदाक्का को दक्षिण गढ़चिरोली मे नक्सल आंदोलन की कमान सौंपी गयी. जिसके बाद उसे छत्तीसगढ़ तथा तेलंगाना का जिम्मा भी दिया गया.  

आदिवासी तथा जनजातीय क्षेत्र-दंडकारण्य इलाके में महिलाओ को नक्सल आंदोलन मे शामिल कर आंदोलन अधिक उग्र करने के लिए वो जानी जाती है. पुलिस के खिलाफ संघर्ष के लिये नर्मदाक्का ने आंदोलन से जुड एक अलग सशस्त्र बल खडा किया था. बल के पास आधुनिक हथियार है. नर्मदाक्का के नाम जिले मे कुल 65 बडे मामले दर्ज है. जिसमे हत्या, लूट, सरकारी संपदा का नुकसान जैसे संगीन मामले शामिल है. 6 वर्ष पूर्व दिल्ली युनिव्हर्सिटी के प्रोफेअर जी. एन. साईबाबा को नर्मदाक्का तथा अन्य बड़े नक्सली नेताओं को जानकारी पहुंचाने के आरोप मे बंदी बनाया गया था तब नर्मदाक्का का नाम सामने आया था.   

महाराष्ट्र पुलिस ने उसपर 25 लाख का इनाम रखा था. आंध्रप्रदेश के कृष्णा जिले की मूल निवासी नर्मदाक्का पिछले 25 वर्षे से भूमिगत रहकर हिंसक नक्सली कार्रवाई को अंजाम दे रही है. नर्मदाक्का का पती किरण कुमार (57) आंदोलन का बडा नाम है. वो दंडकारण्य स्पेशन जोन कमिटी सदस्य है. इसके जिम्मे गडचिरोली जिले मे नक्सली घटनाओको पुरा करने की जिम्मेदारी है. किरणकुमार पर महाराष्ट्र सरकार ने 20 लाख का इनाम रखा है. टेक्नॉलॉजी मे माहिर किरणकुमार नक्सली आंदोलन का मैगझीन 'प्रभात' के संपादन की जिम्मेवारी भी है. तेलंगणा राज्य के  विजयवाडा का मूल निवासी किरणकुमार नक्सली विचारधाराके प्रचार-प्रसार का मुखिया भी है. कुछ दिनों पहले 1 मई को  गडचिरोली जिले में कुरखेडा तहसील में जांभूलखेडा मे पुलिस की गाडी को लैंड माईन से उडा देने के मामले मे यह दंपती मुख्य सूत्रधार है. 

इस बडी गिरफ्तारी से छत्तीसगड, तेलंगाना तथा महाराष्ट्र इन 3 राज्यो मे नक्सली आंदोलन का शीर्ष नेतृत्व अब पुलिस की गिरफ़्त में है. इन दोनों को 7 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया है, जिसके दौरांन इनसे कई महत्वपूर्ण जानकारी हासिल होने की उम्मीद है. इस कार्रवाई को गडचिरोली पुलिस की नक्सल विरोधी मूहिम की बडी जीत बताया जा रहा है.