Zee Rozgar Samachar

India-Pakistan Border पर एक साथ गरजे भारत और फ्रांस के Rafale, टारगेट पर डमी मिसाइलें भी दागी

जोधपुर: भारत और फ्रांस की वायु सेना (Indian-French Airforce) जोधपुर में भारत-पाकिस्तान सीमा (India-Pakistan Border) पर युद्धाभ्यास कर रही है. 'डेजर्ट नाइट वारगेम्स' (Desert Night Wargames) युद्धाभ्यास में दोनों देशों की वायु सेनाओं ने सीमा पर गुरुवार को अपने-अपने फाइटर प्लेन से ताकत दिखाई. इस दौरान राफेल विमानों की गरज सुनाई दी और टारगेट पर डमी मिसाइलें भी गिराई गईं.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Jan 22, 2021, 15:04 PM IST
1/6

सुखोई और मिराज ने भी किया शक्ति प्रदर्शन

Sukhoi and Miraj also shows power

राफेल जेट (Rafale Jet) के अलावा युद्धाभ्यास के दौरान भारतीय वायु सेना के सुखोई-30 और मिराज 2000 लड़ाकू विमानों ने भी अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया.

2/6

भारत ने पहली बार दिखाई राफेल की ताकत

India showed Rafale strength

यह पहला मौका है जब भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) ने किसी अंतरराष्ट्रीय स्तर की एक्सरसाइज में राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jet) का प्रदर्शन किया है.

3/6

24 जनवरी तक चलेगा युद्धाभ्यास

exercise will last until 24 January

जोधपुर में चल रहे इंडो-फ्रेंच वॉर गेम्स डेजर्ट नाइट-21 की शुरुआत 20 दिसंबर को हुई थी, जिसमें भारत और फ्रांस के लड़ाकू विमान हिस्सा ले रहे हैं. ये युद्धाभ्यास 24 जनवरी तक चलेगा.

4/6

सीडीएस बिपिन रावत ने राफेल में भरी उड़ान

CDS Bipin Rawat flew in Rafale

चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) गुरुवार को इस वॉर गेम में शामिल हुए और उन्होंने पहली बार राफेल विमान में बैठकर उड़ान भरी.

5/6

फ्रांस से आए हैं कई हाईटेक लड़ाकू विमान

fighter aircraft from France

'डेजर्ट नाइट वारगेम्स' (Desert Night Wargames) युद्धाभ्यास में हिस्सा लेने के लिए फ्रांस की तरफ से राफेल, एयरबस ए-330 मल्टी-रोल टैंकर ट्रांसपोर्ट (एमआरटीटी), ए-400एम सामरिक परिवहन विमान और लगभग 175 वायुसैनिक हिस्सा ले रहे हैं.

6/6

क्या है युद्धाभ्यास का मकसद

purpose of the exercise

भारतीय और फ्रांस की वायुसेना युद्धाभ्यास के जरिए अपने सभी फाइटर प्लेन का प्रदर्शन कर दुश्मन देशों को अपनी ताकत का अहसास करवा रही है. इस युद्धाभ्यास का मकसद दोनों देशों की क्षमताओं का प्रदर्शन करते हुए प्रोफेशनल प्रैक्टिस का इस्तेमाल कर युद्धकौशल को और निखारना है.