कुछ ही इंसान Left Hand का इस्तेमाल करते हैं, क्या आपको पता है इसकी वजह?

नई दिल्ली: दुनिया में लेफ्ट और राइट के बीच श्रेष्ठता को लेकर छिड़ी बहस से इतर लेफ्ट हैंडर्स और राइट हैंडर्स की बात करें तो कुछ बच्चे अपने दाएं हाथ का इस्तेमाल ज़्यादा करते हैं तो कुछ बाएं का. हम बच्चों को दाएं हाथ इस्तेमाल कराने की कोशिश करते हैं, क्योंकि लोग इसी हाथ का इस्तेमाल करते आए हैं. इसके बावजूद कुछ बच्चे अपने बाएं हाथ का इस्तेमाल करते हैं. हांलाकि ये अलग बात है कि बायां हाथ इस्तेमाल करने वालों की तादाद कुछ कम ही है. तो आखिर क्या वजह है कि बाएं हाथ का इस्तेमाल करने वालों की तादाद आबादी में कम होती है. आइए इसका कारण तलाशने की कोशिश करते हैं. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Jun 21, 2021, 17:50 PM IST
1/8

तादाद पूरी आबादी में बेहद कम

Why lefties are less in number

दरअसल मानव शरीर में एक तरह का असंतुलन है. उदाहरण के लिए अगर हम बाएं हाथ से अपना फोन उठाते हैं और दाएं को कान पर लगा कर सुनते हैं. जब हमें फोन पर बात करते करते कुछ लिखना होता है तो बाएं कान पर फोन लगाते हैं और दाएं हाथ से लिखना शुरू कर देते हैं.

 

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

2/8

मनोवैज्ञानिक कारण?

In the left-handed participants, the two halves of the brain

दरअसल हमें जिस तरह से काम करने में आसानी होती है, वैसे ही अपने शरीर के अंगों का इस्तेमाल करते हैं. एक शोध के मुताबिक आम तौर पर 40% लोग अपने बाएं कान का, 30% लोग बाईं आंख का, और 20 फीसद लोग बाएं पैर का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन जब बात आती है हाथ की, तो सिर्फ 10 फीसद लोग ही बाएं हाथ का इस्तेमाल ज़्यादा करते हैं.

 

 

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

3/8

लेफ्टी क्रिकेटर्स का जलवा

Are lefties more likely to Become champions

दुनिया में कई लेफ्ट हैंडर क्रिकेटर्स ने अपने खेल के दम पर अपनी बादशाहत साबित की. इस सिलसिले में भारत से लेकर दुनिया के कई क्रिकेटर्स का नाम शामिल किया जा सकता है. ऐसे में सवाल एक बार फिर उठता है कि आखिर ऐसा क्यों है?

 

 

फोटो साभार: (Reuters)

4/8

झिझकने की जरूरत नहीं

I am lefty

अगर आपके घर-परिवार में भी कोई बच्चा लेफ्टी है तो उसका ध्यान रखें. उसे किसी तरह के मानसिक संकल्प विकल्प में न पड़ने दें. बाएं के मुकाबले दाएं हाथ का इस्तेमाल सिर्फ इंसान नहीं करते बल्कि जानवर भी करते हैं. एक वैज्ञानिकों शोध के मुताबिक आधे चिंपांजी बाएं हाथ का तो आधे दाएं हाथ का इस्तेमाल करते हैं. मगर दस के मुकाबले एक इंसान ही बाएं हाथ का इस्तेमाल करता है. आखिर इंसानों ने दाएं हाथ के इस्तेमाल पर जोर देना कब शुरू किया ये जानने के लिए हमें इंसान के विकास की बुनियाद में जाना होगा.

 

(प्रतीकात्मक फोटो)

5/8

दस के मुकाबले एक इंसान लेफ्टी!

Reason behind it

आदि मानव के रिश्तेदार रहे 'निएंडरथल' मानव के दांतों से इसका इशारा मिलता है. लेकिन वो मांस को काटने के लिए औजार उसी हाथ में पकड़ते थे, जिसमें उनकी ताकत ज्यादा होती थी. रिसर्च करने वालों ने पाया है कि निएंडरथल मानव भी अपने दाएं हाथ का इस्तेमाल ज़्यादा करते थे. उन में भी दाएं और बाएं हाथ का इस्तेमाल करने का अनुपात दस में से एक था. जो कि आज के इंसानों में देखने को मिलता है.

 

(प्रतीकात्मक फोटो)

6/8

तथ्यों की चर्चा

Study speaks

मेडिकल साइंस के शोध से जुड़े लोग और मनोवैज्ञानिक आज भी ये पता लगाने की कोशिश में हैं कि हमारे डीएनए का कौन सा हिस्सा इस बात के लिए उकसाता है कि हम दाएं या बाएं हाथ का इस्तेमाल ज्यादा करें. लेकिन जवाब आज भी किसी के पास नहीं है.

 

(प्रतीकात्मक फोटो)

7/8

टेनिस में भी जलवा

Tennis Stars

जो लोग अपने बाएं हाथ का इस्तेमाल करते हैं, क्या उनके जीवन पर इसका कोई असर पड़ता है? इस सवाल पर भी लंबी बहस चली आ रही है. कहा जाता है कि हमारे बाईं ओर का दिमाग दाएं हाथ को कंट्रोल करता है वहीं दिमाग का दायां हिस्सा बाएं हाथ को काबू में रखता है. यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के डॉक्टरों का मानना है कि बाएं हाथ का इस्तेमाल करने वाले लोग ज्यादा समझदार होते हैं. उनके पास दूसरे आम इंसानों के मुकाबले कुछ ज्यादा काबिलियत होती है. एक और उदाहरण की बात करें तो लेफ्ट हैंड वालों ने टेनिस की दुनिया में भी राज किया है.

 

 

फोटो साभार: (Reuters)

8/8

इन नेताओं ने किया राज

US Lefty Presidents

बाएं हाथ का इस्तेमाल करने वालों के साथ ये मिथक जुड़े हैं कि उन्हें डिस्लेक्सिया और ऑटिज्म जैसी बीमारियां जल्दी होती हैं. कुछ लोगों का कहना है जो लोग इस तरह की बातें फैलाते हैं वो दरअसल भेदभाव का नजरिया रखते हैं. जबकि दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश के कई राष्ट्रपति खब्बू यानी लेफ्टी हुए हैं जिनमें इस तरह की कोई समस्या नहीं देखी गई. बहरहाल बाएं हाथ का इस्तेमाल करने वाले अगर समझदार और रचनात्मक होते हैं, तो फिर उनकी तादाद कम क्यों है? ये आज भी एक पहेली ही बना हुआ है. इसका जवाब तलाशने के लिए तमाम शोध अभी तलक जारी है.