Zee Rozgar Samachar

PM Modi की Assam रैली, नेताजी Subhash Chandra Bose को किया नमन

PM Narendra Modi's Assam Rally: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये ऐतिहासिक काम शिवसागर की भूमि पर हो रहा है. मैं इस भूमि को नमन करता हूं. शिवसागर के इस महत्व को देखते हुए इसको देश के सबसे आइकॉनिक 5 साइट्स में शामिल करने का प्रयास किया जा रहा है.

PM Modi की Assam रैली, नेताजी Subhash Chandra Bose को किया नमन
असम के शिवसागर में पीएम मोदी ने रैली को संबोधित किया | फोटो साभार: ANI

शिवसागर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (शनिवार को) असम दौरे पर पहुंचे हैं. पीएम मोदी आज सुबह असम के जोरहाट एयरपोर्ट पर पहुंचे. इसके बाद वो जोरहाट एयरपोर्ट से सेना के विशेष हेलीकॉप्टर से शिवसागर गए. पीएम मोदी इस वक्त शिवसागर जिले में एक रैली को संबोधित कर रहे हैं. इस मौके पर असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने पीएम मोदी का स्वागत किया.

पीएम मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को दी श्रद्धांजलि

असम के शिवसागर जिले में रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी (Narendra Modi) ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Subhash Chandra Bose) को नमन किया. उन्होंने कहा कि आज भारत नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जन्म जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मना रहा है. हमारी धरती माता का रूप है और ये भूपेन हजारिका ने कहा था. आत्मविश्वास तभी बढ़ता है जब घर-परिवार में भी सुविधाएं मिलती हैं और बाहर का इंफ्रास्ट्रक्चर भी सुधरता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि बीते सालों में इन दोनों मोर्चों पर असम (Assam) में अभूतपूर्व काम किया गया है. असम में जब सरकार बनी तो 6 लाख मूल निवासी ऐसे थे, जिनके पास कानूनी कागज नहीं थे. सर्बानंद सोनोवाल की सरकार ने गंभीरता से काम किया. आत्मनिर्भर असम का रास्ता असम के लोगों के आत्मविश्वास से होकर गुजरता है.

असम का तेजी से विकास हमारी प्राथमिकता

पीएम मोदी ने कहा कि अब लाखों लोगों के जीवनस्तर के बेहतर होने का रास्ता भी बना है, अब इन्हें केंद्र सरकार की योजना का लाभ मिलेगा, जो सीधे इनके बैंक खातों में जाएगा. आत्मनिर्भर भारत के लिए नार्थ-ईस्ट और असम का तेज विकास बहुत ही जरूरी है. पौने दो करोड़ गरीबों के खाते खोले गए, जिसमें कोरोना काल में सहायता राशि भेजी गई.

ये भी पढ़ें- LAC पर देखे गए चीन के जासूस, हाई अलर्ट पर भारतीय सेना

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि असम में जब हमारी सरकार बनी तो उस समय भी यहां करीब-करीब 6 लाख मूल निवासी परिवार थे, जिनके पास जमीन के कानूनी कागज नहीं थे. पहले की सरकारों में आपकी ये चिंता उनकी प्राथमिकता में ही नहीं थी. आज असम के मूल निवासियों की भाषा और संस्कृति के संरक्षण के साथ-साथ भूमि से जुड़े उनके अधिकारों को सुरक्षित करने पर भी विशेष जोर दिया जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने की लैंड पॉलिसी की तारीफ

पीएम मोदी ने कहा कि 2019 में जो नई लैंड पॉलिसी बनाई गई, वो यहां की सरकार की प्रतिबद्धता को दिखाता है. असम की लगभग 70 छोटी-बड़ी जनजातियों को सामाजिक संरक्षण देते हुए, उनका तेज विकास हमारी सरकार की प्रतिबद्धता रही है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अटल जी की सरकार हो या फिर बीते कुछ सालों से केंद्र और राज्य में एनडीए की सरकार, असम की संस्कृति और स्वाभिमान की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता रही है. असमिया भाषा और साहित्य को प्रोत्साहन देने के लिए भी अनेक कदम उठाए गए हैं.

ये भी पढ़ें- मां पर नाबालिग बेटे के यौन उत्पीड़न का आरोप, कोर्ट ने कहा- 'तार-तार हुई पवित्रता'

पीएम मोदी ने कहा कि इसी तरह हर समुदाय के महान व्यक्तित्वों को सम्मान देने का काम बीते सालों में यहां किया गया है. ऐसी धरोहर को बचाने और उसका प्रचार-प्रसार करने के लिए कोशिश हो, ये हर सरकार की जिम्मेदारी होनी चाहिए थी. लेकिन बाटाद्रवा सत्र सहित दूसरे सत्रों के साथ क्या बर्ताव किया गया, ये आपसे छुपा नहीं है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि श्रीमंत शंकरदेव जी का दर्शन, उनकी शिक्षा असम के साथ-साथ संपूर्ण देश, पूरी मानवता के लिए बहुत अनमोल संपत्ति है. आज असम की करीब 35 लाख गरीब बहनों की रसोई में उज्जवला का गैस कनेक्शन है. इसमें भी लगभग 4 लाख परिवार SC/ST वर्ग के हैं. 2014 में जब हमारी सरकार केंद्र में बनी, तब असम में LPG कवरेज सिर्फ 40 प्रतिशत ही थी. अब उज्जवला की वजह से असम में LPG कवरेज बढ़कर करीब-करीब 99% हो गई है.

पीएम मोदी ने कहा कि आपका आशीर्वाद मेरे लिए बहुत बड़ा सौभाग्य है. आपका ये प्रेम और स्नेह मुझे बार-बार असम ले आता है. पिछले साल कोकराझार में ऐतिहासिक बोडो समझौते के बाद जो उत्सव हुआ था, उसमें मैं शामिल हुआ था और आज फिर आपकी खुशियों में शामिल होने आया हूं.

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि आज एक लाख से ज्यादा परिवारों को भूमि के स्वमित्व का पत्र मिलने से आपकी बहुत बड़ी चिंता दूर हो गई है. असम की मिट्टी से प्यार करने वाले मूल निवासियों को अपनी जमीन से जुड़ाव का सर्टिफिकेट दिया गया.

पीएम मोदी ने कहा कि ये ऐतिहासिक काम शिवसागर की भूमि पर हो रहा है. मैं जयभूमि के अदम्य सहस और इस भूमि को नमन करता हूं. शिवसागर के इस महत्व को देखते हुए इसको देश के सबसे आइकॉनिक 5 साइट्स में शामिल करने का प्रयास किया जा रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि काजीरंगा पार्क को अतिक्रमण से मुक्त किया जा रहा है. नॉर्थ-ईस्ट का विकास होना बहुत जरूरी है. सबका साथ, सबका विश्वास के नारे पर सरकार चल रही है. असम के कोने-कोने में विकास हो रहा है.

बता दें कि पीएम मोदी ने असम के शिवसागर जिले में 1.06 लाभार्थियों को उनके जमीन के स्वामित्व का सर्टिफिकेट दिया.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.