PM मोदी बोले- अब अंडमान के हजारों परिवारों को मिलेंगे डिजिटल इंडिया के लाभ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर को जोड़ने वाले सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल का उद्घाटन किया. 1224 करोड़ रुपये की लागत से लगभग 2300 किलोमीटर लंबी सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाई गई है.

PM मोदी बोले- अब अंडमान के हजारों परिवारों को मिलेंगे डिजिटल इंडिया के लाभ
पीएम मोदी ने ही दिसंबर 2018 में परियोजना की आधारशिला रखी थी.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर को जोड़ने वाले सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल का उद्घाटन किया. पीएम मोदी ने ही दिसंबर 2018 में परियोजना की आधारशिला रखी थी. 1224 करोड़ रुपये की लागत से लगभग 2300 किलोमीटर लंबी सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाई गई है. सरकारी कंपनी BSNL ने समंदर के भीतर केबल बिछाने का काम पूरा किया है. 

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आज का दिन अंडमान के लोगों के लिए अहम है. उन्होंने आगे कहा, "नेता जी सुभाषचंद्र बोस को नमन करते हुए, करीब डेढ़ वर्ष पहले मुझे सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल कनेक्टिविटी परियोजना के शुभारंभ का अवसर मिला था. मुझे खुशी है कि अब इसका काम पूरा हुआ है और आज इसके लोकार्पण का भी सौभाग्य मुझे मिला है." 

पीएम मोदी ने कहा, "चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर, पोर्ट ब्लेयर से लिटिल अंडमान और पोर्ट ब्लेयर से स्वराज द्वीप तक, अंडमान निकोबार के एक बड़े हिस्से में ये सेवा आज से शुरु हो चुकी है. मैं अंडमान-निकोबार के लोगों को अनंत अवसरों से भरी इस कनेक्टिविटी के लिए बधाई देता हूं." 

पीएम ने कहा, "हमारा समर्पण रहा है कि राष्ट्र की सुरक्षा से जुड़े बॉर्डर एरिया और समुद्री सीमा से जुड़े क्षेत्रों का तेजी से विकास हो. अंडमान निकोबार को बाकी देश और दुनिया से जोड़ने वाला ये ऑप्टिकल फाइबर प्रोजेक्ट, ईज ऑफ लिविंग (Ease of Living) के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रतीक है." 

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, "अब ग्रेट निकोबार में करीब 10 हजार करोड़ की संभावित लागत से ट्रांसिप्मेंट पोर्ट के निर्माण का प्रस्ताव है. कोशिश है कि आने वाले 4-5 साल में इसके पहले फेस को बनाकर तैयार कर लिया जाए. एक बार जब ये पोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा तो यहां बड़े-बड़े जहाज भी रुक पाएंगे."  

उन्होंने आगे कहा, "आज जब भारत आत्मनिर्भरता के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है. ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में, ग्लोबल सप्लाई और वैल्यू चेन के एक अहम प्लेयर के रूप में खुद को स्थापित करने में जुटा है. तब हमारे वाटरवेज और हमारे पोर्ट के नेटवर्क को सशक्त करना बहुत जरूरी है."  

सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केनल लिंक चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर के बीच 2X200 गीगाबाइट प्रति सेकेंड की बैंडविड्थ (जीबीपीएस) देगा. पोर्ट ब्लेयर और अन्य द्वीपों के बीच 2X100 गीगाबाइट प्रति सेकेंड की बैंडविड्थ से अब लोगों को इंटरनेट मिलेगा. बेहतर दूरसंचार और ब्राडबैंड सुविधा से अंडमान निकोबार द्वीप क्षेत्र में पर्यटन और रोजगार सृजन को गति मिलेगी. अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी और लोगों का जीवन स्तर सुधरेगा.  

Video