close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राफेल विवाद के बीच मनोहर पर्रिकर और राहुल गांधी के बीच बंद कमरे में हुई मीटिंग

विधानसभा भवन के एक कमरे में ही पर्रिकर और राहुल की मुलाकात हुई. एक तरफ जहां राफेल डील को लेकर कांग्रेस केंद्र सरकार पर लगातार आक्रमण कर रही है. ऐसे में राहुल और पर्रिकर की मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है. दरअसल, राफेल डील के वक्त पर्रिकर ही रक्षा मंत्री थे.

राफेल विवाद के बीच मनोहर पर्रिकर और राहुल गांधी के बीच बंद कमरे में हुई मीटिंग
हाल के दिनों में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर बीजेपी पर हमले तेज कर दिए हैं.

पणजी: कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच बंद कमरे में बातचीत हुई. इनके बीच हुई बातचीत को मीडिया के सामने जाहिर नहीं किया गया है. गोवा में मंगलवार से ही बजट सत्र शुरू हुआ है. इसी में शामिल होने के लिए पर्रिकर पहुंचे थे. विधानसभा भवन के एक कमरे में ही पर्रिकर और राहुल की मुलाकात हुई. एक तरफ जहां राफेल डील को लेकर कांग्रेस केंद्र सरकार पर लगातार आक्रमण कर रही है. ऐसे में राहुल और पर्रिकर की मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है. दरअसल, राफेल डील के वक्त पर्रिकर ही रक्षा मंत्री थे.

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि राफेल मामले को लेकर गोवा के एक मंत्री की कथित बातचीत वाला ऑडियो टेप सामने आने के 30 दिनों बाद भी कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई और ऐसे में यह तय है कि यह टेप असली है तथा गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के पास राफेल के बारे में विस्फोटक गोपनीय जानकारियां हैं. 

गोवा सरकार के मंत्री विश्वजीत राणे से जुड़ी एक खबर को री-ट्वीट करते हुए गांधी ने कहा, ‘राफेल पर ऑडियो टेप रिलीज होने के 30 दिन बाद भी कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं गई या जांच का आदेश नहीं दिया गया. मंत्री के खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं की गई.’ उन्होंने कहा, ‘यह तय है कि टेप असली है और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के पास राफेल पर विस्फोटक गोपनीय जानकारियां हैं जो प्रधानमंत्री के मुकाबले उनको ताकतवर बनाती है.’

दरअसल, कांग्रेस ने गत दो जनवरी को एक ऑडियो जारी किया था जिसमें गोवा सरकार के मंत्री विश्वजीत राणे की आवाज होने का दावा किया गया था. इसमें राणे कथित तौर पर यह कहते हुए सुने जा सकते हैं कि ‘मुख्यमंत्री (पर्रिकर) ने कैबिनेट की बैठक में कहा कि मेरे शयनकक्ष में राफेल मामले की सभी जानकारियां हैं.’ बाद में राणे ने ऑडियो टेप को फर्जी करार देते हुए कहा था कि इस टेप के साथ छेड़छाड़ की गई है.

इनपुट: अनिल पाटिल