अलवर: गोवंश से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर मंदिर में घुसी, गौ तस्कर अस्पताल में भर्ती

सोमवार अलसुबह गोविंदगढ़ के नयाणा गांव में गायों और बछड़ों से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर मन्दिर में जा घुसी.

अलवर: गोवंश से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर मंदिर में घुसी, गौ तस्कर अस्पताल में भर्ती
दोनों चालक और परिचालक गम्भीर रूप से घायल हैं.

अलवर: गौ तस्करी के मामले में हमेशा सुर्खियों में रहे अलवर में एक बार फिर ऐसा ही मामला सामने आया है. सोमवार अलसुबह गोविंदगढ़ के नयाणा गांव में गायों और बछड़ों से भरी पिकअप अनियंत्रित होकर मन्दिर में जा घुसी, जिससे दोनों चालक और परिचालक गम्भीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें उपचार के लिए अलवर रैफर कर दिया गया.

वहीं, पुलिस ने गौ तस्करी में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. घायल गौ तस्करों के परिजन ने कहा यह गाय दुधारू थी और जयपुर से रवन्ने के साथ लायी जा रही थी और कथित गौ रक्षकों द्वारा पिटाई किये जाने के आरोप लगाए हैं. 

अलवर में गौ तस्करी मामले में पहलू खा प्रकरण हो या रकबर की मौत, इससे अलवर देश दुनिया में चर्चित रहा है. राज्य सरकार ने मोब्लिंचिंग पर सख्ती से निपटने के लिए कड़े कदम उठाए, लेकिन यह भी सच है गौ तस्करी पर भी अंकुश नहीं लग पा रहा है. 

इस दुर्घटना में दो गायों और एक बछड़े की मौत हो गयी. पुलिस ने प्रथमदृष्टया में मामला गौ तस्करी का मानते हुए केस दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है. 

वहीं, अलवर के अस्पताल में घायलों का इलाज चल रहा है. घायलों के परिजनों द्वारा मारपीट के लगाए गए आरोपों पर पुलिस का कहना है कि दोनों गौ तस्कर गाड़ी में फंसे हुए थे, उन्हें निकाल कर ईलाज के लिए भेजा. पुलिस के अनुसार गाय दुधारू नहीं थी और गोतस्कर इन्हें दुधारू बताकर बचाना चाह रहे हैं. वहीं, गौ रक्षकों के द्वारा पिटाई के आरोप भी इसलिए गलत लगते है, क्योंकि पुलिस ने पलटी खाई गाड़ी से उन्हें निकाला और अस्पताल भेजा.