ग्रीष्मावकाश के बाद फिर राजस्थान हाईकोर्ट में कामकाज शुरू, किये गए व्यापक प्रबंध

ग्रीष्मावकाश के बाद कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच सोमवार को राजस्थान हाईकोर्ट में कामकाज शुरू हुआ.

ग्रीष्मावकाश के बाद फिर राजस्थान हाईकोर्ट में कामकाज शुरू, किये गए व्यापक प्रबंध
फाइल फोटो

जयपुर: ग्रीष्मावकाश के बाद कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच सोमवार को राजस्थान हाईकोर्ट में कामकाज शुरू हुआ. इस दौरान मुख्य न्यायाधीश के साथ अन्य न्यायाधीशों से मामलों की सुनवाई की. कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हाईकोर्ट परिसर में व्यापक प्रबंध किए गए.

इस दौरान वकीलों और पक्षकारों को ई-पास के जरिए प्रवेश दिया गया. जिन लोगों के ई-पास नहीं बन सके, उनके मौके पर ही पास बनाए गए. वहीं मुख्य बिल्डिंग के प्रवेश द्वार पर सभी लोगों की थर्मल स्क्रिनिंग की गई. इसके अलावा हर अदालत के बाहर हैंड सेनेटाइजर की व्यवस्था की गई.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ाई धज्जियां, पायलट ने लताड़ा

वकीलों में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए एक कोर्ट रूम के बाद अगले कोर्ट कक्ष को खाली रखकर वेटिंग रूम में बदला गया. इसके अलावा एक साथ सिर्फ पांच वकीलों को ही अंदर जाने की अनुमति देते हुए अदालत कक्ष में कुर्सियों की सीमित संख्या कर उन्हें दूर-दूर रखा गया. दूसरी ओर निचली अदालत में वकीलों की संख्या और अदालत कक्षों के कम आकार के चलते सोशल डिस्टेंसिंग नहीं रह सकी.

ये भी पढ़ें: तेल के दामों को लेकर कांग्रेस का प्रदर्शन, पायलट बोले- 'इसके पीछे बड़ी साजिश'