Nagaur : खींवसर पंचायत समिति में टेंडर का विवाद, 17 घंटे बाद पुलिस ने प्रधान पति को छोड़ा

नागौर जिले (Nagaur News) के खींवसर पंचायत समिति में गुरुवार दोपहर में टेंडर विवाद मामले में शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार प्रधान पति जगदीश बिडियासर को आखिर 17 घण्टे के बाद छोड़ा गया.

Nagaur : खींवसर पंचायत समिति में टेंडर का विवाद, 17 घंटे बाद पुलिस ने प्रधान पति को छोड़ा
खींवसर पंचायत समिति में टेंडर विवाद मामले में हुए थे गिरफ्तार.

Nagaur : राजस्थान के नागौर जिले (Nagaur News) के खींवसर पंचायत समिति में गुरुवार दोपहर में टेंडर विवाद मामले में शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार प्रधान पति जगदीश बिडियासर को आखिर 17 घण्टे के बाद छोड़ा गया. प्रधान पति की गिरफ्तारी के विरोध में खीवसर पंचायत समिति (Khinvsar Panchayat Samiti ) के सभी ग्राम पंचायतों के सरपंच पुलिस थाने के बाहर पूरी रात धरने पर बैठे रहे. 

यह भी पढ़ें : Rajasthan में अच्छी बारिश से कम हुआ वायु प्रदूषण, स्वच्छ हुई प्रदेश की आबोहवा

आपको बता दें गुरुवार को पंचायत समिति में टेंडर फॉर्म भरने की प्रक्रिया की गयी थी, जिसमें ठेकेदारों में आपसी बोलचाली की घटना ( Tender dispute in Khinvsar Panchayat Samiti) देखने को मिली. मामले में अखासर निवासी दुर्गाराम ने प्रधान पति जगदीश बिडियासर पर मारपीट करने और टेंडर फॉर्म फाड़ने का मुकदमा दर्ज करवाया. इसके बाद प्रधान पति और सरपंच संघ अध्यक्ष जगदीश बिडियासर को गुरुवार शाम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.

वहीं, दूसरी ओर साठिका सरपंच लक्ष्मी नारायण मेघवाल ने टेंडर फार्म भरने आये दुर्गाराम और अन्यों पर समिति में मारपीट और जातीसूचक गालियां निकालने का मुकदमा दर्ज करवाया है. प्रधान पति और सरपंच संघ अध्यक्ष जगदीश बिडियासर जमानत पर बाहर आने के बाद सभी सरपंचों के साथ पुलिस थाने के बाहर दुर्गाराम की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए. मामले को देखते वृताधिकारी विनोद कुमार शिपा के आश्वासन के बाद सरपंचों ने 10 दिनों तक का समय के साथ धरने की समाप्ति का एलान किया है. प्रधान पति जगदीश ने बताया कि पूरे मामले में कुछ नेताओं के इशारे पर मुझे झूठा फंसाया गया.

उन्होंने कहा कि साथ ही पूर्व में भी मेरे खिलाफ मामले दर्ज करवाये गये. हमें लगातर परेशान किया जा रहा है. पुलिस 10 दिनों के भीतर निष्पक्ष जांच कर साठिका सरपंच के साथ मारपीट करने वाले दुर्गाराम को गिरफ्तार नहीं करती है तो धरना फिर से दिया जायेगा. वहींं नागौर वृताधिकारी विनोदकुमार शिपा ने पत्रकारों के साथ बातचीत में बताया कि मामले में जांच की जा रही है. दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही की जायेगी.

यह भी पढ़ें : फीडबैक मंथन के बाद CM आवास पर Dinner का आयोजन, Congress विधायकों को दिए गए ये निर्देश