जयपुर: ब्रह्मलीन संत नारायणदास पर अशोभनीय टिप्पणी का मामला गरमाया, शाहपुरा बाजार बंद

ब्रह्मलीन संत नारायणदास महाराज के लिए प्रोफेसर द्वारा की गई अशोभनीय टिप्पणी के बाद उठा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. 

जयपुर: ब्रह्मलीन संत नारायणदास पर अशोभनीय टिप्पणी का मामला गरमाया, शाहपुरा बाजार बंद
अनुयायियों और ग्रामीणों ने विरोध रैली निकालकर प्रोफेसर का पुतला जलाया

जयपुर: ब्रह्मलीन संत नारायणदास महाराज (Brahmalin Narayan Das Maharaj) के लिए प्रोफेसर द्वारा की गई अशोभनीय टिप्पणी के बाद उठा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. टिप्पणी से नाराज़ अनुयायियों और ग्रामीणों ने शाहपुरा शहर के बाजार बंद रखकर विरोध जताया और प्रोफेसर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की. 

इस दौरान विरोध रैली निकालकर प्रोफेसर का पुतला भी जलाया. जानकारी के अनुसार गत दिनों जगद्गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत यूनिवर्सिटी (Jagadguru Ramanandacharya Rajasthan Sanskrit University) के एक प्रोफेसर द्वारा त्रिवेणीधाम (Triveni Dham) के ब्रह्मलीन संत नारायणदास महाराज (Brahmalin Narayan Das Maharaj) के लिए अशोभनीय टिप्पणी की गई थी. साथ ही यूनिवर्सिटी की ओर से प्रकाशित पुस्तिका में से भी महाराज श्री की फोटो हटा दी गई थी. महाराज श्री के अनुयायियों को जब इसकी जानकारी मिली तो उनमें रोष व्याप्त हो गया. 

अनुयायियों द्वारा प्रोफेसर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाने लगी. मामले में अभी तक ठोस कार्रवाई नहीं होने से ग्रामीणों में भारी रोष है. शाहपुरा शहर के लोगों और व्यापारियों से बाजार बंद रखकर अपना विरोध जताया. इस दौरान शहर के मुख्य मार्गों से होते हुए विरोध रैली निकाली गई. रैली में अनुयायी प्रोफेसर के खिलाफ नारे लगाते चल रहे थे. इसके बाद शहर के पीपली तिराहे पर प्रोफेसर का पुतला जलाया गया तथा सभा को वक्ताओं ने सबोधित किया. 

ग्रामीणों ने बताया कि शीघ्र ही प्रोफेसर को गिरफ्तार कर सख्त कार्रवाई नहीं कि गई तो बड़े स्तर पर आंदोलन किया जाएगा. गौरतलब है कि ब्रह्मलीन संत नारायणदास महाराज (Brahmalin Narayan Das Maharaj) ने आध्यात्मिक, सामाजिक, शिक्षा और चिकित्सा के क्षेत्र में कई अनुकरणीय कार्य किए थे. संस्कृत यूनिवर्सिटी के निर्माण में महाराज श्री का अहम योगदान रहा है.