close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गांधी परिवार की SPG सुरक्षा हटाना सोची-समझी साजिश : अशोक गहलोत

नाराज गहलोत ने कहा कि ये सुरक्षा गलत तरीके से वापस ली गई है. अगर सुरक्षा वापस भी ली जाती है, तो 5-7 दिन पहले ही बताया जाता है. 

गांधी परिवार की SPG सुरक्षा हटाना सोची-समझी साजिश : अशोक गहलोत
गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने पर गहलोत ने नाराजगी जताई.

जयपुर: अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने स्वागत किया. वहीं केंद्र सरकार द्वारा गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा (SPG Security) हटाए जाने पर खासी नाराजगी जताई. 

शनिवार को राम मंदिर विवाद (Ram Mndir Dispute) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले के बाद सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये नाराजगी जताते हुए केंद्र सरकार पर हमला बोला. गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा (SPG Security) हटाए जाने से नाराज गहलोत ने कहा कि ये सुरक्षा गलत तरीके से वापस ली गई है. अगर सुरक्षा वापस भी ली जाती है, तो 5-7 दिन पहले ही बताया जाता है. ऐसी भी क्या जरूरत पड़ गई कि इस तरह से गांधी परिवार (Gandhi Family) से सुरक्षा वापस ली गई. ये बदला लिया गया है.

नाराज सीएम गहलोत (Ashok Gehlot) यहीं नहीं रूके. आगे उन्होंने कहा कि खतरे के समय सुरक्षा हटाने का क्या मतलब है? खासकर उस परिवार से, जिसके 2 लोगों की हत्या की जा चुकी है. गहलोत ने कहा कि राजीव गांधी (Rajiv Gnadhi) की हत्या को रोका जा सकता था. ये कोई फैसला नहीं है बल्कि सोची-समझी साजिश है. आईबी (IB) को भी राजीव गांधी की हत्या के बारे में पता था. उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह के समय पांच साल तक ये फैसला क्यों नहीं हुआ? 

इससे पहले भी शुक्रवार को अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) केंद्र सरकार पर हमलावर हुए थे. उन्होंने कहा था कि यदि केंद्र सरकार इस प्रकार की राजनीति कर रही है, तो यह उनके दिवालियापन का निशान है.

ये है पूरा मामला
दरअसल, केंद्र सरकार गांधी परिवार को मिली एसपीजी सुरक्षा हटाने जा रही है. इस मामले में सूत्रों का कहना है कि उन्हे एसपीजी की जगह जेड+ मिलने जा रही है. इस दौरान गांधी परिवार की सुरक्षा का जिम्मा पूरी तरह से सीआरपीएफ कमांडों (CRPF Commando) के पास रहेगा. बताया जा रहा है कि गृह मंत्रालय की एक उच्चस्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया.