close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कर्नाटक सरकार के गिरने पर बोले अशोक गहलोत- 'ये कांग्रेस-JDS नहीं बल्कि लोकतंत्र की हार है'

कगौरतलब है कि कर्नाटक में गठबंधन की सरकार बनाने में संगठन महासचिव के तौर पर अशोक गहलोत की अहम भूमिका रही थी.

कर्नाटक सरकार के गिरने पर बोले अशोक गहलोत- 'ये कांग्रेस-JDS नहीं बल्कि लोकतंत्र की हार है'
गहलोत ने कहा भाजपा ने घटिया राजनीति के जरिए जनता की भावनाओं का अनादर किया है.

जयपुर: कर्नाटक में कांग्रेस जेडीएस की सरकार गिरने के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बीजेपी पर हमला बोला. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है ये कांग्रेस जेडीएस की हार नहीं बल्कि लोकतंत्र की हार है. भाजपा ने हॉर्स ट्रेडिंग के जरिए धनबल के सहारे सरकार गिराई है. भाजपा ने घटिया राजनीति के जरिए जनता की भावनाओं का अनादर किया है लेकिन अंत में जीत सत्य की ही होगी. गौरतलब है कि कर्नाटक में गठबंधन की सरकार बनाने में संगठन महासचिव के तौर पर अशोक गहलोत की अहम भूमिका रही थी.

बता दें कि कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार मंगलवार को विधानसभा में विश्वास मत हासिल करने में सफल नहीं रही. बहुमत परीक्षण के दौरान बीजेपी के पक्ष में 105 जबकि कांग्रेस-जेडीएस सरकार के पक्ष में 99 वोट पड़े. इस तरह से छह वोट से कुमारस्वामी सरकार विश्वास मत हार गई. वहीं इस पूरे घटनाक्रम पर राहुल गांधी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 'कर्नाटक में लालच की जीत हुई.'

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, "पहले दिन से ही कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को निहित स्वार्थ वाले लोग निशाने पर लिए थे. ऐसे लोगों को यह गठबंधन खतरा नजर आ रहा था और सत्ता पाने में उनके रास्ते की बाधा था. आज कर्नाटक में लालच की जीत हुई. लोकतंत्र, ईमानदारी और कर्नाटक के लोगों की हार हुई."

जबकि इसी मुद्दे पर कांग्रेस नेता वेणुगोपाल ने कर्नाटक के घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'कर्नाटक की सरकार को केंद्र सरकार, महाराष्ट्र सरकार और बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने मिलकर गिराया है. कांग्रेस पूरे देश में इसके खिलाफ प्रदर्शन करेगी.'

उधर, बसपा प्रमुख मायावती ने कर्नाटक में पार्टी के एकमात्र विधायक को अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया. पार्टी ने कर्नाटक में विश्वास मत के दौरान अपने विधायक को कुमारस्वामी सरकार के पक्ष में मत डालने के लिए कहा था लेकिन विधायक कार्रवाई में शामिल नहीं हुए.