राजस्थान: आज से शुरू हुआ मलमास, एक महीने तक सभी शुभ कार्य रहेंगे वर्जित

ज्योतिषाचार्य पं.पुरुषोत्तम गौड़ ने बताया कि मलमास लगने से एक महीने तक किसी भी प्रकार के शुभ और मांगलिक कार्य नहीं होंगे हालांकि नामकरण संस्कार और नक्षत्र शांति पूजा की जा सकती है. 

राजस्थान: आज से शुरू हुआ मलमास, एक महीने तक सभी शुभ कार्य रहेंगे वर्जित
नामकरण संस्कार और नक्षत्र शांति पूजा की जा सकती है.

जयपुर: पौषकृष्ण पक्ष मास में राजधानी के मंदिरों में भी ठाकुरजी को रजाई ओढ़ानी शुरू हो गई है. पोशाक में मफलर, दस्ताने और टोपा शामिल हो गया है. गर्भगृह में अंगीठी और हीटर भी लगाया जा रहा है. 

ज्योतिषाचार्य पं.पुरुषोत्तम गौड़ ने बताया कि मलमास लगने से एक महीने तक किसी भी प्रकार के शुभ और मांगलिक कार्य नहीं होंगे हालांकि नामकरण संस्कार और नक्षत्र शांति पूजा की जा सकती है. सूर्य बारह राशियों में भ्रमण करते हुए दोपहर 3.28 बजे धनु राशि में प्रवेश करेगा और 14 जनवरी रात 2.06 बजे तक यही रहेगा.

धनु सक्रांति और 40 दिन का सर्दी का चिल्ला कलां भी इस दिन से शुरू हो जाएगा, जो 24 जनवरी तक रहेगा. इस समयावधि में विभिन्न कथाओं का श्रवण करना श्रेष्ठदायी है. ज्योतिषीय गणनाओं के मुताबिक, इस समयावधि में हाड़ कंपाने वाली सर्दी पड़ेगी. धनु राशि में सूर्य का भ्रमण 0 से मकर राशि में 10 डिग्री तक रहेगा. यह अवस्था 40 दिन तक रहेगी, जिससे सबसे अधिक सर्दी पड़ती है और इसे चिल्ला कलां कहा जाता है. 

धनु राशि में बुध, बृहस्पति, शनि और केतु पहले से ही चल रहे हैं. अब सूर्य के प्रवेश करने के साथ ही पंचग्रही योग बनेगा, जो प्राकृतिक प्रकोप को बढ़ाता है. इससे ओलावृष्टि, बारिश, तेज हवाओं का दौर, पहाड़ों पर हिमपात होता है.