close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां के किशनपुरा में मुक्तिधाम की नहीं है समुचित व्यवस्था, शव दाह में होती है परेशानी

ग्रामीणों का कहना है की गांव में श्मशान घाट नहीं होने और जहां पर शव को जलाने का स्थान है वहां जाने तक का रास्ता नहीं होने के कारण लोगों को भारी परेशानी हो रही है.

बारां के किशनपुरा में मुक्तिधाम की नहीं है समुचित व्यवस्था, शव दाह में होती है परेशानी

राम मेहता, बारां: जिले के अटरू पंचायत समिति क्षेत्र के किशनपुरा ग्राम पंचायत के गांव चैथ्या गांव में श्मशान घाट की व्यवस्था नहीं होने के कारण और बरसात के कारण मृतक भोलाराम विश्वकर्मा का 24 घंटों के बाद अंतिम संस्कार किया गया. 

ग्रामीणों का कहना है की गांव में श्मशान घाट नहीं होने और जहां पर शव को जलाने का स्थान है वहां जाने तक का रास्ता नहीं होने के कारण लोगों को भारी परेशानी हो रही है. ग्रामीण गांव में एक खाली जगह पर शव का अंतिम संस्कार करते हैं लेकिन वहां पर टीनशेड आदि की व्यवस्था नहीं होने के कारण खुलें में ही शव जलाना पड़ता है. 

ऐसें में बरसात आदि होने पर शवों का अंतिम संस्कार नहीं हो पाता. वहीं शव जलानें की जगह तक जाने के लिए रास्ता नहीं होने के कारण कीचड़ और रास्तों में भरे पानी में होकर गुजरना पड़ता है. 

गांव के भोलाराम विश्वकर्मा का निधन होने पर बरसात होते रहने के कारण 24 घटें बाद शव का अंतिम संस्कार किया गया. शव जलानें के स्थान पर ग्रामीणों ने खुद जुगाड़ व्यवस्था कर रास्ते में भरे पानी में होकर निकल कर शव का अंतिम संस्कार कर सकें.