बाड़मेर: गिरफ्तारी के लिए प्रदर्शन करने वाला ही निकला कातिल

बाड़मेर जिले के ग्रामीण थाना अंतर्गत बिशाला गांव के करीब 22 दिन पहले देर शाम अज्ञात हमलावरों ने लूट की वारदात को अंजाम देकर 65 वर्षीय बुजुर्ग दुर्गाराम सेन की चाकू घोंपकर हत्या कर दी थी.

बाड़मेर: गिरफ्तारी के लिए प्रदर्शन करने वाला ही निकला कातिल
प्रतीकात्मक तस्वीर

बाड़मेर: जिले के ग्रामीण थाना क्षेत्र के बिशाला गांव में 3 दिसंबर को हुई बुजुर्ग दुर्गाराम की हत्या के मामले में पुलिस ने बुधवार को खुलासा करते हुए हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर पूरे घटनाक्रम का पर्दाफाश किया. मामले में चौंकाने वाली बात यह सामने आई कि आरोपी ही विशाला गांव के लोगों के साथ हत्या का खुलासा करने की मांग को लेकर जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देने में अगुवाई करता रहा और जब पुलिस द्वारा गिरफ्तार करने की भनक लगी तो आरोपी भागकर पुणे चला गया.

बाड़मेर जिले के ग्रामीण थाना अंतर्गत बिशाला गांव के करीब 22 दिन पहले देर शाम अज्ञात हमलावरों ने लूट की वारदात को अंजाम देकर 65 वर्षीय बुजुर्ग दुर्गाराम सेन की चाकू घोंपकर हत्या कर दी थी. वारदात के बाद बिशाला ग्राम के लोगों द्वारा धरना प्रदर्शन कर और बाड़मेर एसपी को ज्ञापन सौंपकर मामले में गिरफ्तारी की मांग की जा रही थी. आरोपी सब्बीर खान भी इस प्रदर्शन में शामिल रहा. 

बाड़मेर एसपी शरद चौधरी ने वारदात के खुलासे के लिए एएसपी खींवसिंह भाटी के नेतृत्व में ग्रामीण थानाधिकारी दीपसिंह समेत एक टीम गठित की थी. एसपी के अनुसार 22 दिन बाद पुलिस को सफलता मिली और पुलिस ने बिशाला निवासी सब्बीर खान (22) को हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया और पूछताछ के बाद उसने अपना जुर्म कुबूल किया. एसपी के अनुसार आरोपी ने वारदात में एक बाल अपचारी का भी नाम बताया है, जिसे पुलिस ने निरुद्ध किया है.

एसपी के अनुसार आरोपी ने कुबूल किया है कि मृतक बुजुर्ग को गहने पहनने का शौक था और आरोपी ने आभूषण हथियाने के लिए बाल अपचारी के साथ मिलकर चाकू घोंपकर बुजुर्ग दुर्गाराम सेन की हत्या की थी. 22 दिन बाद पुलिस ने हत्या के आरोपी सब्बीर खान मिरासी को गिरफ्तार कर लिया. वहीं एक बाल अपचारी को भी निरुद्ध किया. एसपी के अनुसार पुलिस आरोपी से पूछताछ में जुटी हुई है और अन्य तथ्यों पर भी आरोपी से पूछताछ की जा रही है.