close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में बीजेपी ने सदस्यता अभियान खत्म, जुड़े 50 लाख से अधिक सदस्य

बीजेपी का कहना है कि पार्टी ने इस अभियान के लिए कार्यकर्ताओं ने खूब मेहनत की है. वहीं राजस्थान में 57 लाख से ज्यादा सदस्य बनने से नेता भी उत्साहित हैं.

राजस्थान में बीजेपी ने सदस्यता अभियान खत्म, जुड़े 50 लाख से अधिक सदस्य
बीजोपी ने इस बार राजस्थान में 11 लाख नए सदस्य जोड़ने का टार्गेट दिया गया था.

जयपुर: बीजेपी ने अपना सदस्यता अभियान पूरा कर लिया है. इस अभियान को पार्टी जीत के अभियान के रूप में भी देख रही है. दरअसल राजस्थान में इस बार सदस्यता के लिए 11 लाख का लक्ष्य तय किया था. लेकिन पार्टी ने तय लक्ष्य से पांच गुणा ज्यादा सदस्य बनाए. इस आंकड़े ने कार्यकर्ताओं के साथ ही पार्टी नेताओं को भी उत्साहित कर दिया है. बीजेपी के नेताओं का आकलन है कि इस सदस्यता अभियान से पार्टी ने प्रदेश में लम्बे समय तक जीत बरकरार रखने के लिए मजबूत आधार तैयार कर लिया है. 

वहीं बीजेपी का कहना है कि पार्टी ने इस अभियान के लिए कार्यकर्ताओं ने खूब मेहनत की है. वहीं राजस्थान में 57 लाख से ज्यादा सदस्य बनने से नेता भी उत्साहित हैं. यह आंकड़ा इसलिए भी विशेष अहमियत रखता है क्योंकि पार्टी को राजस्थान के लिए इस बार 11 लाख नए सदस्य जोड़ने का टार्गेट दिया गया था. पार्टी की राजस्थान इकाई ने इस आंकड़े को बढ़ाकर पचास लाख कर लिया था. 

साल 2016 और इस बार के सदस्यता अभियान को मिलाकर बीजेपी के पास तकरीबन 1 करोड़ 10 लाख सदस्य हो गए हैं. कार्यकर्ताओं के लिए यह आंकड़ा उत्साहित करने वाला इसलिए भी है क्योंकि यह आंकड़ा लोकसभा चुनाव में बीजेपी को मिले वोटों के 58 फ़ीसदी से ज्यादा बैठता है. 

प्रदेश में बीजेपी के सदस्यों की संख्या एक करोड़ से पार होना बीजेपी के लिए खास अहमियत इसलिए भी रखता है. पार्टी को साल 2013 के चुनाव के बाद से अब तक हर चुनाव में मिले वोटों के मुकाबले यह आंकड़ा 58 फीसदी से ज्यादा ही बैठ रहा है. साल 2013 में बीजेपी को 1 करोड़ 39 लाख 39 हज़ार 203 वोट मिले. जबकि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में 1 करोड़ 48 लाख 95 हज़ार 106 वोट मिले. पांच साल बाद 2018 के विधानसभा चुनाव में पार्टी सत्ता से बाहर हुई, लेकिन फिर भी 1 करोड़ 38 लाख 29 हज़ार 046 वोट मिले. इसके पांच महीने बाद साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 1 करोड़ 89 लाख 68 हज़ार 392 वोट मिले. 

पार्टी नेताओं का कहना है कि बीजेपी के वोटों के मुकाबले सदस्यता का आधार मजबूत होने से आगे के कई चुनावों के लिए पार्टी के पास मजबूत आधार हो गया है. बीजेपी के प्रवक्ता लक्ष्मीकांत भारद्वाज कहते हैं कि आने वाले स्थानीय निकाय, पंचायतीराज चुनाव के साथ ही विधानसभा की दो सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भी पार्टी को इसका फायदा जरूर मिलेगा. 

चुनाव में सदस्यों का फायदा किस तरह मिलेगा, इस सवाल पर बीजेपी के प्रदेश मन्त्री मुकेश दाधीच ने कहा कि पार्टी के सदस्यों का आधार बढ़ने से आने वाले चुनाव में बीजेपी के वोटों की गिनती ही एक करोड़ दस लाख से शुरू होगी. दाधीच ने बताया कि कि जो व्यक्ति खुद सदस्यता लेता है वह अपने परिवार के लोगों के साथ ही मित्रों, साथी कारोबारियों या कर्मचारियों के साथ ही दूसरे परिचितों को भी पार्टी के पक्ष में तैयार करने के लिए माहौल बनाता है और ऐसा होने पर बीजेपी को फायदा मिलना तय है.