दौसा में डीएपी खाद की भारी किल्लत, इधर-उधर भटक रहे किसान
topStoriesrajasthan

दौसा में डीएपी खाद की भारी किल्लत, इधर-उधर भटक रहे किसान

रबी की फसल बुवाई का दौर जारी है, लेकिन डीएपी खाद नहीं मिलने से किसान परेशान हैं. दौसा जिले में भी खाद को लेकर कमोबेश हालात खराब हैं. किसान सुबह से लेकर शाम तक खाद के लिए सहकारी समितियों के यहां चक्कर लगाते हैं. 

दौसा में डीएपी खाद की भारी किल्लत, इधर-उधर भटक रहे किसान

Dausa: प्रदेश में इन दिनों रबी की फसल बुवाई का दौर जारी है, लेकिन डीएपी खाद नहीं मिलने से किसान परेशान हैं. दौसा जिले में भी खाद को लेकर कमोबेश हालात खराब हैं. किसान सुबह से लेकर शाम तक खाद के लिए सहकारी समितियों के यहां चक्कर लगाते हैं, लेकिन उन्हें खाद नहीं मिल रहा है. बाजार में ब्लैक में खाद मिलने की भी किसान शिकायत कर रहे हैं.

किसानों का कहना है कि समय पर उन्हें खाद नहीं मिला तो वह समय से फसल बुवाई नहीं कर सकेंगे. ऐसे में उनकी फसल अगेती नहीं होकर पछेती होगी, जिसके चलते पैदावार कम होगी. पिछले दिनों केंद्रीय डेयरी और पशुपालन राज्यमंत्री डॉ संजीव बालियान ने भी जिले में खाद की कालाबाजारी के आरोप लगाए थे. उनका कहना था कि मांग से अधिक केंद्र सरकार ने जिले को खाद दिया, उसके बावजूद भी किसानों को खाद नहीं मिल रहा, यह सीधा-सीधा कालाबाजारी है. 

15 सितंबर से रबी की फसल बुवाई का समय माना जाता है, लेकिन किसानों को डीएपी खाद नहीं मिलने से फसल बुवाई पर असर हो रहा है. दौसा जिले में डीएपी खाद की भारी किल्लत है. किसान खाद के लिए घंटों तक सहकारी समितियों के आगे लाइन लगाकर खड़े रहते हैं. उसके बावजूद भी उन्हें समय से खाद नहीं मिल रहा, जिसके चलते वह परेशान हैं. वहीं, किसान ब्लैक और कालाबाजारी का भी आरोप लगा रहे हैं. 

पिछले दिनों दौसा दौरे पर आए केंद्रीय डेयरी एवं पशुपालन राज्यमंत्री डॉ संजीव बालियान ने भी जिले में केंद्र द्वारा मांग से अधिक खाद सप्लाई की बात दौराई थी. बालियान ने कहा कि दौसा जिले से 8352 मेट्रिक टन डीएपी खाद की मांग की गई थी, जिसके चलते 10252 मैट्रिक  टन खाद केंद्र द्वारा भेजा गया. वहीं, 22696 मैट्रिक टन यूरिया खाद की मांग की गई, जिसके विरूद्ध 28595 मैट्रिक टन खाद सप्लाई किया गया. उसके बावजूद भी किसानों को समय पर खाद नहीं मिल रहा. यह दुर्भाग्य है, वही मंत्री बालियान ने आरोप लगाए जिले में खाद की कालाबाजारी की जा रही है और इसमें अधिकारियों और नेताओं की मिलीभगत है. 

प्रदेश में किसानों को समय से डीएपी और यूरिया खाद मिले इसके लिए एक अक्टूबर को मुख्य सचिव उषा शर्मा ने सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर निर्देशित किया है. किसानों को समय से डीएपी और यूरिया खाद मिले. साथ ही, कालाबाजारी पर अंकुश लगे. वहीं, पत्र में यह भी हवाला दिया गया. प्रदेश में 8 लाख पचास हजार मैट्रिक टन यूरिया और 4 लाख चालीस हजार मेट्रिक टन डीएपी के विरुद्ध 8 लाख 29 हजार मैट्रिक टन यूरिया और चार लाख 65 हजार मैट्रिक टन डीएपी की आपूर्ति हो चुकी है. 

इसके बाद दौसा जिला प्रशासन और कृषि विभाग हरकत में आया, जहां खाद को लेकर अनियमितता के मामले में जिलेभर में आधा दर्जन खाद विक्रेताओं के खिलाफ कार्रवाई की गई, तो वही लाइसेंस भी निलंबित किए गए. साथ ही, बसवा थाना क्षेत्र में खाद से भरी गाड़ी भी जप्त की गई और एफआईआर भी दर्ज करवाई गई. 

Reporter- Laxmi Sharma

यह भी पढ़ेंः 

IAS टीना डाबी बहन रिया डाबी के चेहरे पर ये किस चीज आया ग्लो, फैंस बोले-गजब हैं मैम

 

IAS अतहर आमिर खान की बेगम महरीन काजी ने निकाह में ढाई कयामत, फैंस बोले- नजर ना लगे

 

दीवाली की सफाई करते वक्त बिच्छू का दिखना है शुभ, देता है ये सकेंत

Trending news