पहले बीवी के लिए हाईटेंशन लाइन के टॉवर पर चढ़ा युवक, फिर इरादा बदल गया तो बोला...

पुलिस को ग्रामीणों ने बताया कि दो दिन पहले भीमा का उसकी पत्नी से किसी बात को लेकर विवाद हो गया था. इसके बाद वह पीहर चली गई.

पहले बीवी के लिए हाईटेंशन लाइन के टॉवर पर चढ़ा युवक, फिर इरादा बदल गया तो बोला...
पुलिस ने भीमा को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया है.

अविनाश जगनावत, उदयपुर: पीहर गई पत्नी के घर नहीं लौटने से परेशान उदयपुर के खोलड़ी हीरावत फंला का रहने वाला एक युवक शनिवार को 1 लाख 35 हजार केवी लाइन के विद्युत टॉवर पर चढ़ गया. युवक के टॉवर पर चढ़ने पर मौके पर बड़ी संख्या में ग्रामीण जमा हो गए.

सूचना पर झल्लारा थानाधिकारी रमेशचन्द्र बोरीवाल मय जाब्ता मौके पर पहुंची. पुलिस ने युवक से समझाइश कर उसे नीचे उतरने का प्रयास किया लेकिन वह विद्युत टॉवर से नीचे नहीं उतरा. 

यह भी पढ़ें- 10 दिन से इस घर में सुनाई दे रहीं थीं अजीब आवाज़ें, देखा तो निकला कोबरा, फिर...

पुलिस को ग्रामीणों ने बताया कि दो दिन पहले भीमा का उसकी पत्नी से किसी बात को लेकर विवाद हो गया था. इसके बाद वह पीहर चली गई. वहीं, टॉवर पर चढ़े भीमा ने भी साफ कहा कि जब तक उसकी पत्नी नहीं आ जाती, वह नीचे नहीं उतरेगा. इस पर पुलिस ने करीब 15 किलो मीटर दूर ढाल गांव से उसकी पत्नी को बुलाया लेकिन पत्नी के आने के बाद भी भीमा विद्युत टॉवर से नीचे नाही उतरा. इस दौरान मौके पर पहुचे तहसीलदार नारायण लाल जीनगर और गांव के लोगो ने भी समझाइश कर उसे नीचे उतरने का प्रयास किया लेकिन सफल नहीं हुए.

यह भी पढ़ें- यहां तो सच में युवक की 'आस्तीन में सांप' निकला, देखते ही चीखने लगा, फिर...

भीमा ने की शराब की डिमांड
करीब दो घंटे के प्रयास के बाद भी जब भीमा को विद्युत टॉवर से नीचे उतारने में सफल नहीं हुई तो पहले पुलिस ने ग्रामीणों की भीड़ को मौके से हटाया. इसके बाद थानाधिकारी रमेशचंद्र ने उसे प्यार समझाया तो भीमा ने कई दिनों से शराब का सेवन नहीं करने की बात कहते हुए एक बोतल शराब मंगवाने की डिमांड रखी. इस पर पुलिस ने शराब की बोतल मंगाई ओर इसे टॉवर के नीचे रख कर दूर चले गए. कुछ देर बाद भीमा शराब की बोतल लेने नीचे उतरा तो मौके देख पुलिस ने उसे दबोच लिया. पुलिस ने भीमा को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया है.

समय पर हो गई बिजली बंद वरना बड़ा हादसा हो जाता 
जिस टॉवर यह युवक भीमा चढ़ा था, वह टॉवर 1 लाख 35 हजार केवी का था और टॉवर के ऊपर वायरों से यह कुछ ही दूरी पर था. भीमा के टॉवर पर चढ़ने के तुरंत बाद ही समय पर विद्युत आपूर्ति बंद करवा दिया गया. ऐसे में एक बड़ा हादसा होने से टल गया.